top of page
Search
  • alpayuexpress

सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला: बेटे शादी तक, लेकिन बेटियां हमेशा बेटियां रहती हैं, संपत्ति पर बराबर हक




अगस्त मंगलवार 11-8-2020


किरण नाई ,वरिष्ठ पत्रकार -अल्पायु एक्सप्रेस


जस्टिस अरुण मिश्रा की बेंच का अहम फैसला


बेटियां भी पैतृक संपत्ति में बराबर की हिस्सेदार


सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फैसले में बेटियों को भी पिता या पैतृक संपत्ति में बराबर का हिस्सेदारा माना है. जस्टिस अरुण मिश्रा की बेंच के फैसले में साफ कहा गया है कि ये उत्तराधिकार कानून 2005 में संशोधन की व्याख्या है.


कोर्ट ने अपनी अहम टिप्पणी में कहा, बेटियां हमेशा बेटियां रहती हैं. बेटे तो बस विवाह तक ही बेटे रहते हैं. यानी 2005 में संशोधन किए जाने से पहले भी किसी पिता की मृत्यु हो गई हो तब भी बेटियों को पिता की संपत्ति में बेटे या बेटों के बराबर ही हिस्सा मिलेगा.

1 view0 comments

Comments


bottom of page