Search
  • alpayuexpress

अजय व विजय बरनवाल हत्याकांड में शामिल 1 लाख के ईनामी बदमाश के एनकाउंटर से सराफा व्यवसायियों ने ली रा

रवि वर्मा सीनियर रिपोर्टर, (शादियाबाद ) -अल्पायु एक्सप्रेस



सैदपुर। सराफा व्यवसायियों के लिए सिरदर्द बने रोशन गुप्ता उर्फ किट्टू उर्फ बाबू को गुरुवार की रात पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया। किट्टू का खौफ गाजीपुर के भी सराफा व्यवसायियों में था। सैदपुर नगर के प्रमुख सराफा व्यवसायी अजय बरनवाल व उनके भाई विजय बरनवाल की हत्या में भी किट्टू शामिल था। उसकी मौत का पता चलते ही सराफा व्यवसायियों ने राहत की सांस ली। गौरतलब है कि 2012 में सात दिसंबर की शाम दुकान बंदकर सपा व्यापार सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं प्रमुख सराफा व्यवसायी अजय बरनवाल व उनके भाई विजय बरनवाल घर जा रहे थे। वार्ड 14 स्थित उनके घर के सामने बाइक सवार दो बदमाशों ने गोली मारकर जेवरों से भरा बैग लूट लिया था। गोली लगने से अजय बरनवाल की स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाते समय मौत हो गई थी। वहीं उनके छोटे भाई विजय बरनवाल उर्फ बंटी को इलाज के लिए वाराणसी ले जाया जा रहा था। लेकिन उन्होंने भी रास्ते में दम तोड़ दिया था। इस घटना से पूरा नगर सहम गया था और लोगों में गुस्सा भी भर गया था। तत्कालीन पुलिस कप्तान विजय गर्ग ने ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए घटना में शामिल हत्यारों को तीन दिन के अंदर वाराणसी से गिरफ्तार कर लिया था। इस घटना में सात लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार जेल भेजा था। इस मामले में गिरोह के सरगना कुख्यात सन्नी सिंह को वाराणसी एसटीएफ ने 2015 में 30 जुलाई को ही कबीरचौरा अस्पताल के पास एनकाउंटर में मार दिया था। वहीं गिरोह के एक अन्य सदस्य नगर निवासी जितेंद्र जायसवाल उर्फ बाबा की बीते एक जून की रात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। उस समय बाबा रेलवे क्रासिंग के पास स्थित अपनी मिठाई की दुकान बंदकर घर जा रहा था। पहियापर गांव के पास बाइक सवार हमलावरों ने गोली मारकर बाबा की हत्या कर दी। किट्टू इन दिनों जमानत पर बाहर था लेकिन अपराध में उसकी संलिप्तता कम नहीं हो रही थी। अभी इसी सप्ताह उसने वाराणसी के एक सराफा व्यापारी से उसी के घर के सामने मुंह पर पिस्टल रखकर 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी थी। लेकिन पूरा घटनाक्रम सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया। फिरौती मांगते समय का वीडियो वायरल होने के बाद यूपी एसटीएफ समेत वाराणसी क्राइम ब्रांच व गाजीपुर क्राइम ब्रांच कुख्यात किट्टू की गिरफ्तारी में जुट गई थी। इस बीच चौक थाना के बड़ी पियरी निवासी किट्टू को पुलिस ने जैतपुरा थाना क्षेत्र के डाट पुल सरैया के पास देखा। पुलिस को देख किट्टू ने फायरिंग करना शुरू कर दिया। जवाबी फायरिंग में वह घायल हो गए। उसे इलाज के लिए कबीरचौरा अस्पताल भेजा गया, जहां उसकी मौत हो गई। सनद रहे कि सैदपुर में लूट के दौरान मारे गए सराफा व्यवसायी अजय बरनवाल की समाजवादी पार्टी में अच्छी पकड़ थी। उस समय वह सपा व्यापार सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष थे। छोटे भाई विजय बरनवाल के साथ ही वे नगर स्थित अपने जेवर की दुकान पर बैठते थे। उनकी हत्या के बाद तत्कालीन सीएम अखिलेश यादव ने उनके पुत्र सौम्यप्रकाश बरनवाल को फोन कर शोक संवेदना व्यक्त किया था। कैबिनेट मंत्री व सीएम के चाचा शिवपाल यादव समेत कई मंत्रियों ने घर आकर संवेदना व्यक्त की थी। अजय बरनवाल के हत्या में शामिल किट्टू के पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने का पता चलने पर व्यापारियों ने राहत महसूस की है।

3 views0 comments