Search
  • alpayuexpress

कम उम्र में शादी मतलब मां-बच्चे के स्वास्थ्य की बर्बादी




जुलाई शनिवार 25-7-2020


किरण नाई ,वरिष्ठ पत्रकार -अल्पायु एक्सप्रेस


गोण्डा। बिटिया सयानी हो गयी है ….. । बस इतनी-सी बात दिमाग मे आयी नहीं कि योग्य वर की खोज-बीन शुरू हो जाती है। रिश्तेदारी मे भी शादी की चर्चा आम होने लगती है। दिमाग मे सिर्फ एक ही बात रहती है कि घर और वर ऐसा हो कि बिटिया को कोई तकलीफ न हो। इन सारी तैयारियों के बीच बस एक बात का ध्यान किसी को नहीं रहता है कि बिटिया की उम्र क्या है और वह कितनी सयानी हो गयी है? जी हाँ हम बात कर रहे हैं बेटियों की शादी की सही उम्र और किशोरावस्था मे गर्भधारण करने से जुड़ी समस्याओं की।

किशोरावस्था यानि 20 वर्ष की आयु पूरी होने से पहले गर्भ धारण करना माँ व उसके होने वाले शिशु दोनों के लिए चुनौती पूर्ण होता है। जिला महिला चिकित्सालय में तैनात स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ सुवर्णा श्रीवास्तव के अनुसार, आधुनिक चिकित्सीय व्यवस्था के बावजूद भी किशोर अवस्था मे गर्भधारण करने वाली माताएँ अक्सर कम वजन या समय से पहले शिशुओं को जन्म देती हैं। उनके प्रसव मे जटिलताएँ अधिक रहती हैं। शरीर मे खून की कमी और प्री-एक्लेम्पसिया यानि प्रसव से पहले झटके आना आदि के जोखिम बने रहते हैं। उन्होंने बताया कि गर्भावस्था से संबंधित जटिलताएं 15 से 19 वर्ष की महिलाओं में मृत्यु का सबसे आम कारण है। राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के जिला नोडल अधिकारी डॉ मलिक आलमगीर के अनुसार, “शादी अगर 18 साल की उम्र मे हुई है, तो दो साल बाद यानि 20 वर्ष या उसके बाद की उम्र मे ही गर्भधारण करना चाहिए द्य इस बीच गर्भनिरोधक साधनों का इस्तेमाल कर गर्भधारण से बचना चाहिए।“

गौरतलब हो कि राष्ट्रीय पारिवारिक स्वास्थ्य सर्वेक्षण 2015 -16 के अनुसार, जिले में 20 से 24 वर्ष की 48.6 फीसदी किशोरियों की शादी 18 वर्ष की उम्र से पहले हो गयी द्य वहीं 15 से 19 साल की 5.5 फीसदी महिलाएं या तो माँ बन गईं या गर्भवती हो गईं । डॉ मलिक का कहना है कि किशोर गर्भावस्था को रोकने के लिए नए शादी-शुदा दंपत्तियों को विभाग द्वारा आशा कार्यकर्ताओं के माध्यम से “पहल किट” का वितरण भी कराया जा रहा है, जिसमें गर्भ निरोधक सामग्री के साथ जानकारी कार्ड, आशा कार्यकर्त्री एवं एएनएम के संपर्क सूत्र होते हैं। राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के जिला सलाहकार रंजीत सिंह के अनुसार घर में बैठी बेटी की उम्र जैसे-जैसे बढ़ती है, माता-पिता को उसकी शादी की चिंता होने लगती है द्य इसीलिए बाल विवाह के मामले में स्कूल न जाने वाली किशोरियों की संख्या सबसे अधिक है द्य दूसरी ओर स्कूल जाने वाली किशोरियाँ गर्भावस्था के दौरान अक्सर उच्च शिक्षा से वंचित रह जाती हैं, विद्यालय मे उनकी उपस्थिति कम हो जाती है, जो आगे चलकर उनके कैरियर के अवसरों को कम करता है। रंजीत सिंह ने कहा कि हमें ऐसे स्वस्थ वातावरण का निर्माण करना होगा, जहां किशोरियों में सुरक्षा की भावना हो, उनके माता-पिता निर्भय होकर बेटियों की पढ़ायी आगे भी जारी करवा सकें, न कि घर बैठाकर उनके लिए योग्य वर की खोज मे सपने सँजोने लगें।

0 views0 comments