top of page
Search
  • alpayuexpress

नए नियमों के बावजूद मानकविहीन नंबर प्लेट्स की सड़कों पर आई बाढ़, किस रंग की नंबर प्लेट का क्या है महत्

नए नियमों के बावजूद मानकविहीन नंबर प्लेट्स की सड़कों पर आई बाढ़, किस रंग की नंबर प्लेट का क्या है महत्व, जानें-


नवम्बर सोमवार 9-11-2020


किरण नाई ,वरिष्ठ पत्रकार -अल्पायु एक्सप्रेस



गाजीपुर। इन दिनों सड़कों पर तमाम तरह के बिना मानक के डिजाइनर वाहन नम्बर प्लेट देखने को मिल रहे हैं। पुलिस और परिवहन विभाग के आदेशों की अवहेलना करते हुए दो पहिया और चारपहिया वाहन मालिक अपने गाड़ियों में हाई सिक्योरिटी नम्बर प्लेट लगाने में उदासीन हैं। गौरतलब है कि नए नियमों के अनुसार, हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाना वाहन निर्माता कंपनियों के साथ-साथ ग्राहकों के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। जिससे वाहन चोरी की वारदातों में कमी आएगी। एचएसएनपी नंबर प्लेट्स को सरकार के वाहन डेटाबेस से भी जोड़ा गया है, जिसमें किसी प्रकार की छेड़छाड़ सम्भव नहीं है। इसमें मौजूद रजिस्ट्रेशन मार्क, क्रोमियम-बेस्ड होलोग्राम, स्टिकर ऐसे होंगे कि निकालने पर कोशिश पर खराब हो जाएंगे। इस पर लगे स्टिकर में गाड़ी के रजिस्ट्रेशन नंबर के साथ, रजिस्टर अथॉरिटी, लेजर ब्रांडेड परमानेंट नंबर, इंजन और चेसिस नंबर तक की जानकारी है। ये नंबर प्लेट 6 प्रकार के होते हैं। जिसमें सफेद प्लेट का प्रयोग निजी वाहनों में किया जाता है और उसका कमर्शियल इस्तेमाल नहीं हो सकता। इसके अलावा सड़कों पर दिखने वाली पीली नंबर प्लेट कामर्शियल प्रयोग वाली टैक्सी, ट्रक, कार आदि वाहनों में लगते हैं। वहीं नीले रंग के नंबर प्लेट्स को विदेशी राजनयिकों यानी विदेशी प्रतिनिधियों के लिए रिजर्व गाड़ियों में होता है। काले रंग की नंबर प्लेट वाली गाड़ियां भी आमतौर पर कमर्शियल वाहन ही होती हैं लेकिन वो किसी खास व्यक्ति के होने की पहचान लिए होती हैं। लाल रंग की नंबर प्लेट का प्रयोग भारत के राष्ट्रपति या फिर किसी राज्य के राज्यपाल के वाहनों के लिए किया जाता है। इसके अलावा एक ऐसी नंबर प्लेट होती है जिस पर तीर बना होता है। इसका प्रयोग सैन्य वाहनों में किया जाता है। ताकि उसकी गोपनियता बनी रहे और इन नंबर प्लेट्स पर एकदम अलग तरह के नंबरिंग सिस्टम का प्रयोग किया जाता है।

2 views0 comments

Comments


bottom of page