Search
  • alpayuexpress

CM योगी को फिर मिली जान से मारने की धमकी, पकड़ा गया आरोपी



CM योगी को फिर मिली जान से मारने की धमकी, पकड़ा गया आरोपी


नवम्बर मंगलवार 24-11-2020


( किरण नाई ,वरिष्ठ पत्रकार -अल्पायु एक्सप्रेस-Alpayu Express)


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक बार फिर जान से मारने की धमकी वाला मैसेज आया है. यूपी 112 के हेल्पडेस्क के वॉट्सऐप नंबर पर धमकी का ये मैसेज आया है. इस बार एक नाबालिग ने डायल 112 पर मैसेज किया जिसमें योगी को धमकी देते हुए अपशब्दों का इस्तेमाल किया. सूचना के बाद पुलिस तुरंत सक्रिय हो गई. मुकदमा दर्ज कर आरोपी को कुछ देर में सुशांत गोल्फ सिटी थाने की पुलिस ने हिरासत में लिया. उसके पास मोबाइल और सिम बरामद किया है. पुलिस पूछताछ में जुटी है.


आपको बता दें कि इससे पहले भी 21 मई को सीएम योगीको जान से मारने की धमकी मिली थी. यह धमकी भी यूपी पुलिस के 112 मुख्यालय में एक वॉट्सएप मैसेज के जरिए मिली थी. इसमें लिखा गया है- CM योगी को बम से मारने वाला हूं, मुसलमानों के जान के दुश्मन हैं वो. इसकी शुरुआती जांच के बाद इंस्पेक्टर गोमतीनगर की तरफ से थाने में एफआईआर लिखवा दी गई थी. आईपीसी की धारा 505 (1) (b), 506 और 507 के तेहत केस दर्ज किया गया है. मामले की जांच में पुलिस की टीमें लग गई हैं।


पुलिस ने मकान में मारा छापा, गंध आने पर दीवार तोड़ी तो दंग रह गई पुलिस की टीम

आगरा(उत्तरप्रदेश)

थाना ताजगंज के बसई खुर्द में रविवार सुबह पुलिस ने दो घरों में छापा मारकर कच्ची शराब की बिक्री करते हुए महिला सहित तीन को पकड़ा। उन्होंने अपने घरों की दीवार और फर्श में बनवाई गई जगह में कच्ची शराब के पाउच छिपाए थे।पुलिस ने फर्श और दीवार को तोड़कर शराब के पाउचों को निकाला. शराब को छिपाने के लिए दीवार को दो से तीन फुट तक खोखला किया गया था.यही हाल फर्श का भी था.तकरीबन 500 लीटर कच्ची शराब पकड़ी गई।

सीओ सदर महेश कुमार ने बताया कि कच्ची और नकली शराब बेचने वालों की धरपकड़ के लिए अभियान चलाया जा रहा है.मुखबिर से मिली सूचना पर बसई खुर्द में चेकिंग की गई। रविवार तड़के तकरीबन पांच बजे वीना नामक महिला के घर शराब बेची जाने की पुष्टि पर छापा मारा। वीना पूर्व में कच्ची शराब की बिक्री करते पकड़ी गई थी। घर में तलाशी लेने पर भी शराब नहीं मिली लेकिन शराब की गंध आ रही थी।इस पर दीवारों को देखा गया था.कमरे में एक तरफ दीवार की ओर से ज्यादा गंध मिली तो इसे तोड़ा गया। दीवार में एक से दो फुट तक जगह मिली, जिसमें शराब के पाउच भरे थे। इस पर घर की फिर से तलाशी ली गई। एक जगह फर्श में जगह बनाकर इसी तरह से शराब छिपाई गई मिली। शराब निकालने के लिए एक लकड़ी का पट्टा लगा रखा था।

इसके बाद पुलिस सोनू और मोहर सिंह के घर पहुंची। दोनों मूलरूप से एटा के रहने वाले हैं। इस समय बसई में रह रहे हैं। उन्होंने भी दीवार में बनाई जगह और फर्श में शराब के पाउच छिपाए थे। दीवार में बिजली का बोर्ड लगाकर छेद को छिपा रखा था। बोर्ड को हटाकर शराब के पाउच निकालते थे।


धौलपुर से ला रहे थे कच्ची शराब

सीओ सदर महेश कुमार ने बताया कि आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि वह धौलपुर से ड्रमों में कच्ची शराब लेकर आते हैं। इसमें यूरिया सहित अन्य चीजें मिलाकर तीव्रता और मात्रा बढ़ा लेते हैं। पाउच को घर में ही पैक करते हैं। लोगों को यह 25 से 30 रुपये में उपलब्ध करा दिए जाते हैं। धौलपुर से शराब मात्र सात से दस रुपये पाउच के हिसाब से मिल जाती है। जानने वालों को ही यह दिए जाते हैं।


ग्राहक बनाकर भेजा था एक व्यक्ति को

पुलिस ने पहले एक व्यक्ति को ग्राहक बनाकर वीना के घर भेजा।उससे ज्यादा शराब खरीदने के लिए कहा था। जैसे ही महिला ने अंदर से लाकर ग्राहक को शराब दी तो पुलिस अंदर घुस गई। ताजगंज पुलिस ने कलाल खेरिया स्थित देसी शराब के एक सेल्समैन राकेश को गिरफ्तार किया। वह देसी शराब में पानी मिलाकर बेचा करता था।

शादी के चंद घंटे बाद ही नगदी व जेवर लेकर बोलेरो गाड़ी से दो दुल्हनें फरार, गुरुवार को हुआ था 'चट मंगनी पट ब्याह'

आगरा(उत्तरप्रदेश)


आगरा जिले के बाह क्षेत्र में चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां शादी होने के कुछ घंटे बाद ही दो दुल्हनें घर से फरार हो गईं। जब परिवार वालों की इसकी जानकारी हुई तो उनके होश उड़ गए। दोनों दुल्हनें नकदी और जेवर भी अपने साथ ले गई हैं।शनिवार को यह मामला इलाके में चर्चा का विषय बना रहा। बाह क्षेत्र के फरैरा गांव के सगे भाइयों की शादी एक व्यक्ति ने गुरुवार को सोनभद्र जिले के पकराहत गांव की सगी बहनों से कराई थी। शुक्रवार को सुहागरात से पहले शौच के बहाने दोनों दुल्हनें नकदी- जेवर लेकर भाग निकलीं। पीड़ित परिवार बिचौलिया और दोनों युवतियों की तलाश में लगा है।पीड़ित परिवार के अनुसार आगरा के दयालबाग निवासी एक व्यक्ति ने फरैरा गांव के सगे भाइयों का रिश्ता गांव पकराहत, नौदिहा (सोनभद्र) की रहने वाले सगी बहनों से तय कराया था। फरैरा में युवतियों को लाकर दिखाने के बाद गुरुवार को ही चट मंगनी पट ब्याह करा दिया गया।


शौच के लिए बाहर गई थीं दोनों दुल्हनें

शुक्रवार की रात दोनों दुल्हनें शौच के बहाने अपनी सास के साथ घर से निकलीं। रास्ते में पहले से ही एक बोलेरो गाड़ी खड़ी थी, जिसमें बैठकर दोनों फरार हो गईं। सास ने घर आकर घटना की जानकारी दी तो परिजनों के होश उड़ गए। गांव के लोगों को पता चला तो वे भी हैरान रह गए। पीड़ित परिवार का आरोप है कि दोनों दुल्हनें घर में रखे 50 हजार रुपये, मंगलसूत्र और सोने की अंगूठियां, चांदी की पाजेब ले गई हैं। पीड़ित ने थाने में शिकायत करने की बात कही है। हालांकि बाह थाना प्रभारी बीआर दीक्षित ने ऐसी किसी भी घटना की जानकारी से इनकार किया है।


अयोध्या जनपद के भ्रष्ट पुलिसकर्मियों पर हाई कोर्ट का तमाचा।

अयोध्या जनपद के भ्रष्ट सीओ रहे वीरेंद्र विक्रम द्वारा भेजी गई पत्रकार के खिलाफ चार्जशीट को हाईकोर्ट ने किया स्टे। हाई कोर्ट की तेजतर्रार एडवोकेट Neera Yadav ने पत्रकार के खिलाफ भेजी गई चार्जशीट को हाईकोर्ट में किया था चैलेंज। गोसाईगंज पुलिस की कमियों को उजागर करने वाले पत्रकार के खिलाफ गोसाईगंज के भ्रष्ट पुलिस कर्मियों ने दर्ज कराया था फर्जी मुकदमा। अयोध्या जनपद के भ्रष्ट इंस्पेक्टरों में शुमार आशुतोष मिश्रा के कार्यकाल में दर्ज हुआ था गोसाईगंज थाने में पत्रकार के खिलाफ मुकदमा।


योगी सरकार का अवैध शराब कारोबारियों के खिलाफ अभियान तेज, अब तक 888 मामले दर्ज, 283 लोग गिरफ्तार


उत्तर प्रदेश के प्रयागराज और लखनऊ में पिछले दिनों जहरीली शराब से हुई लोगों की मौत की पृष्ठभूमि में अवैध कारोबार के खिलाफ चलाए जा रहे राज्य व्यापी अभियान के दौरान पिछले चार दिनों में 283 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. आबकारी विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय आर. भूसरेड्डी ने आज बताया कि जहरीली शराब से लोगों की मौत की घटनाओं के मद्देनजर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर अवैध रूप से शराब कारोबार के खिलाफ 18 नवंबर से अभियान चलाया जा रहा है जो कि 2 दिसंबर तक चलेगा.


आबकारी विभाग के अपर मुख्य सचिव ने बताया कि अवैध रूप से शराब के निर्माण, बिक्री और उसकी तस्करी की रोकथाम के लिए चलाए जा रहे इस अभियान के तहत पिछले चार दिनों में इस कारोबार में शामिल 283 लोगों को गिरफ्तार किया गया है तथा कुल 888 मामले दर्ज किए गए हैं. भूसरेड्डी ने बताया कि इस अभियान के दौरान अब तक अवैध रूप से बनाई गई 18,286 लीटर शराब बरामद की गई है और इसके निर्माण में इस्तेमाल होने वाले 1,52,575 किलोग्राम लहन को मौके पर नष्ट किया गया है. साथ ही बताया कि सभी जिला आबकारी अधिकारियों, उप आबकारी आयुक्तों तथा संयुक्त आबकारी आयुक्तों को प्रदेश की विभिन्न आबकारी दुकानों का निरीक्षण करते हुए उनसे नमूने लेकर जांच कराने के निर्देश दिए गए थे. इस सिलसिले में अब तक 12,957 दुकानों का निरीक्षण कर 14,892 नमूने लिए गए हैं. इन नमूनों को मेरठ, लखनऊ, गोरखपुर और प्रयागराज की आबकारी प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजा जा रहा है.


यूपी को सेनीटाइजर उत्पादन से 137 करोड़ रुपए की हुई आय, 9 महीनों में सेनीटाइजर का हुआ रिकॉर्ड 177 लाख लीटर का उत्पादन।


आपदा को अवसर में कैसे तब्‍दील किया जाता है, ये उत्‍तर प्रदेश की योगी सरकार ने कोरोना काल में करके दिखा दिया है।आपदा में अवसर मंत्र का पालन करते हुए यूपी सरकार ने कोविड-19 अवधि के दौरान सेनीटाइजर का 177 लाख लीटर उत्‍पादन दर्ज कर राजस्व वृद्धि का एक नया रिकार्ड बनाया है।


आबकारी विभाग के आंकड़ों के अनुसार, राज्य की चीनी मिलों और छोटी इकाइयों ने 24 मार्च से 15 नवंबर 2020 तक 177 लाख लीटर सेनीटाइजर का रिकॉर्ड मात्रा में उत्पादन किया है।इससे सरकार को 137 करोड़ रुपये का राजस्व मिला है, जोकि एक रिकार्ड है।


आबकारी विभाग के अनुसार यूपी के बाहर 78.38 लाख लीटर सेनीटाइजर की बिक्री हुई है।वहीं यूपी में कुल 87.01 लाख लीटर सेनीटाइजर बेचा गया है।इस तरह सेनीटाइजर की कुल बिक्री 165.39 लाख लीटर हुई है।


अपर मुख्य सचिव आबकारी संजय आर भूसरेड्डी ने बताया '' आपदा में अवसर '' मंत्र का पालन करते हुए आबकारी विभाग ने सेनीटाइजर का समय पर उत्‍पादन कराया।साथ ही बाजार में समय पर सेनीटाइजर की उपलब्‍धता भी सुनिश्चित की।इसी वजह से यूपी ने सेनीटाइजर से राजस्व सृजन में एक कीर्तिमान स्थापित किया है।


आंकड़ों के अनुसार सेनीटाइजर उत्‍पादन से 12,848 लाख रुपये का जीएसटी राजस्व और 794.28 रुपए का लाइसेंस शुल्क मिला है जबकि विकृतीकरण से प्राप्त राजस्व 21.18 लाख रुपए है।

1 view0 comments