top of page
Search
  • alpayuexpress

विद्युत मजदूर पंचायत के प्रतिनिधिमंडल ने डीएम से!...हड़ताल के चलते निकाले गए संविदा कर्मियों को पुनःक

विद्युत मजदूर पंचायत के प्रतिनिधिमंडल ने डीएम से!...हड़ताल के चलते निकाले गए संविदा कर्मियों को पुनःकाम पर वापस रखे जाने की मांग की


किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


गाजीपुर। खबर गाजीपुर जिले से है जहां पर अपनी विभिन्न मांगों को लेकर विद्युत मजदूर पंचायत का एक प्रतिनिधिमंडल जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचा। जिलाधिकारी कार्यालय में पत्रक सौंपते हुए विद्युत कर्मचारी नेताओं ने मानदेय भुगतान समिति विभिन्न मांगो को रखा। 37 निकाले गये संविदाकर्मियों को काम पर वापस रखे जाने की भी मांग उठाई। विद्युत मजदूर पंचायत के अतिरिक्त प्रांतीय महामंत्री निर्भय नारायण सिंह ने पत्रक के माध्यम से बताया कि जनपद गाजीपुर में विद्युत संविदाकर्मी से मेसर्स भारत इण्टरप्राजेज तथा मीटर रीडरों से कार्य कराने हेतु मेसर्स स्टर्लिंग कम्पनी नियुक्त है। जिसमें सारे कर्मचारी अल्प वेतन भोगी है, परन्तु दोनों कम्पनीयों द्वारा कार्य कर रहे समस्त अल्प वेतन भोगी कर्मचारियों के वेतन का भुगतान पिछले तीन माह से नहीं दिया गया है। जिससे ये कर्मचारी भुखमरी के कगार पर हैं। यह भी बताया कि मेसर्स स्टर्लिंग कम्पनी द्वारा मीटर रीडरों का 18 माह का पी०एफ० का पैसा भी नहीं जमा किया गया है जो घोर अनियमितता की श्रेणी में आता है। इसको लेकर अधीक्षण अभियन्ता, विद्युत वितरण मण्डल गाजीपुर से प्रभावी हस्तक्षेप कर इनका भुगतान कराने का अनुरोध किया जा चुका है, परन्तु केवल झुठा आश्वासन देते-देते तीन माह व्यतित हो गए, परन्तु भुगतान नहीं हुआ। 37 संविदाकर्मियों को मार्च 2023 में संघर्ष समिति के हड़ताल के कारण आपके आदेश पर निकाला गया था, जिससे उनका परिवार भूखमरी के कगार पर पहुँच गया है। मानवता के आधार पर 37 निकाले गये संविदाकर्मियों को काम पर वापस रखवाने का आदेश जारी करने की मांग है। जिलाध्यक्ष अरविंद कुशवाहा ने डीएम से अपने स्तर से प्रभावी हस्तक्षेप कर संविदाकर्मियों तथा मीटर रीडरों का भुगतान करवाने के साथ मार्च 2023 की हड़ताल के कारण निकाले गये 37 संविदाकर्मियों को विभाग में पुनः समायोजित किये जाने हेतु आदेशित करने की मांग की है। इस दौरान विजय शंकर राय, सुरेश सिंह समेत कई बिजली कर्मचारी नेता मौजूद रहे।

1 view0 comments

Comentarios


bottom of page