top of page
Search
  • alpayuexpress

मीडिया के सामने पोल खुलते ही आग बबूला हुआ प्रधान पति!...आए दिन बढ़ती जा रही ग्राम प्रधान प्रतिनिधि क

मधुपुर/सोनभद्र/उत्तर प्रदेश


मीडिया के सामने पोल खुलते ही आग बबूला हुआ प्रधान पति!...आए दिन बढ़ती जा रही ग्राम प्रधान प्रतिनिधि की ग्राम सभा में दबंगई।


आकाश मौर्या ब्यूरो चीफ


सोनभद्र:- पूरा मामला जनपद सोनभद्र का है ग्राम पंचायतों में महिलाओं की भागीदारी को लेकर आरक्षण के माध्यम से महिला सशक्तिकरण के संदेश देने वाला सरकार का दावा टाय टाय फिस्क होता नजर आ रहा है। ग्राम पंचायत के चुनाव में महिलाओं को आरक्षण देकर सरकार की मंशा महिला सशक्तिकरण को और मजबूत करना था मगर अफसोस यह दावा केवल दावा है जमीनी अस्तर पर तो कुछ और देखने को मिलता है बात ग्राम सभा की की जाए तो चुनी हुई महिला प्रत्याशी अपने घर से ही पंचायत का काम कागजों में देखती है और केवल हस्ताक्षर व अंगूठे लगाने का काम देखती है पूरा काम पति या प्रतिनिधि अपने अनुसार देखते हैं महिला ग्राम प्रधान को अपने ग्राम सभा में क्या हो रहा है इसके बाबत कुछ भी नहीं मालूम होता है।

मामला मधुपुर सोनभद्र का है जहां बीते दिनों पोस्टर के माध्यम से ग्राम प्रधान को लापता बताया गया उसी के साथ ही ग्राम प्रधान पति को माफियाओं से सांठगांठ कर सरकारी धन की बंदरबांट होने की बात छपी हुई है बताया जाता है कि ग्राम प्रधान पति की दबंगई और गुंडाई से परेशान होकर ग्रामीणों ने यह कदम उठाया है। इसी दौरान जब आज कुछ मीडियाकर्मी ग्राम पंचायत मधुपुर के पंचायत भवन के अगल बगल फैले कूड़े का अंबार और बजबजति हुई नालियों का कवरेज करने पहुंचे तो ग्राम समाधान दिवस पंचायत भवन पर लगी हुई थी प्रधान पति भी मौजूद थे कवरेज करने के दौरान प्रधान पति को अपनी पोल खुलती हुई नजर आई फिर क्या था यह देख प्रधान पति आग बबूला हो गए और अपने सहयोगियों को आगे कर कवरेज को रोकने लगे और दबाव बनाने लगे की खबरें उनके पक्ष में ही दिखाई जानी चाहिए प्रधान पति द्वारा खबरों की कवरेज को रोकना उनके द्वारा किए गए भ्रष्टाचार को उजागर करता है ।

अब देखना यह है कि जिला प्रशासन कितना सजग है और सफाई के प्रति अग्रसर है कि नहीं फिलहाल तो बज बजाती हुई नालियां और गंदे अपशिष्ट से पूरा मधुपुर बाजार बस्ती और पंचायत भवन त्रस्त है । सफाई कर्मी ने ग्राम प्रधान पर आरोप लगाते हुए कहा है कि प्रधान जी कोई सहयोग नहीं कर रहे हैं। मैं अकेले क्या कर सकता हूं जब तक प्रधान और सेक्रेटरी साहब सहयोग नहीं करेंगे तब तक मैं अकेले कुछ नहीं कर पाऊंगा बार बार प्रधान जी से मैं यह बात कर चुका हूं फिर भी सहयोग नही हुआ।

5 views0 comments

Comments


bottom of page