Search
  • alpayuexpress

मजदूरों की बस पर राजनीति : कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष लल्लू समेत कई कांग्रेसी हिरासत में



( किरण नाई ,वरिष्ठ पत्रकार -अल्पायु एक्सप्रेस-Alpayu Express)


मई बुधवार 20-5-2020


मजदूरों की बस पर राजनीति : कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष लल्लू समेत कई कांग्रेसी हिरासत में


*आगरा।* दूसरे राज्यों से यूपी आ रहे श्रमिकों की घर वापसी को लेकर भाजपा और कांग्रेस में शनिवार शाम से शुरू हुआ शह मात का खेल करीब 100 घंटे से भी ज्यादा बीतने के बाद मंगलवार को भी जारी रहा। प्रियंका गांधी की 1000 बसों की पेशकश को योगी सरकार के मंजूर करने के कदम को महामारी के दौर में सकारात्मक सियासत कह कर सराहा गया लेकिन मंगलवार की सुबह 10 बजते -बजते दोनों दलों में सियासी आरोप-प्रत्यारोपों का दौर और तीखा हो गया। अंतत: मंगलवार को शाम तक न तो श्रमिकों को बसें ही मिल सकीं और न ही बसें सरकार की मंशा के मुताबिक कांग्रेस ने गाजियाबाद पहुंचाईं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को दर्जनों साथियों संग आगरा सीमा पर धरना देने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं प्रियंका ने योगी सरकार को घेरते हुए पूरे घटनाक्रम पर ट्वीट कर कहा कि श्रमिकों के लिए बसें ले जाने दीजिए, चाहे बसों पर भाजपा के झंडे लगा दीजिए। इसके उलट सरकार ने दावा कर दिया कि बसों के नंबर की दी गई सूची में टैक्सी, एंबुलेंस, कारों और थ्री व्हीलर के भी नंबर हैं।

ताजा खींचतान की शुरुआत सोमवार को देर रात तब हुई जब प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी की ओर से प्रियंका गांधी के निजी सचिव को रात 11.40 बजे पत्र भेजा गया। इसमें कहा गया कि 1000 बसें मंगलवार को सुबह 9 बजे लखनऊ में डीएम के सुपुर्द कर दी जाएं। इसके जवाब में प्रियंका के निजी सचिव संदीप सिंह ने सोमवार की रात 2.10 मिनट पर जवाब दिया। उन्होंने कहा कि चूंकि श्रमिकों को दिल्ली-यूपी की सीमा से यूपी में आना है और वहां श्रमिकों की लाखों की भीड़ जमा है लिहाजा लखनऊ बसें भेजना न सिर्फ समय बल्कि संसाधनों की भी बर्बादी होगी। बसें लखनऊ में मांगना राजनीति से प्रेरित कदम है। लिहाजा, हमारी बसों को गाजियाबाद-नोएडा सीमा से चलाने के दिशा-निर्देश दें।

1 view0 comments