top of page
Search
  • alpayuexpress

प्रज्ञा रेंजर टीम द्वारा!...महिला पीजी कॉलेज में मनाया गया अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस

प्रज्ञा रेंजर टीम द्वारा!...महिला पीजी कॉलेज में मनाया गया अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस


किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


गाजीपुर:- खबर गाजीपुर जिले से है जहां पर राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय में रविवार को प्रज्ञा रेंजर टीम द्वारा अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस मनाया गया। कार्यक्रम में विषय प्रवर्तन करते हुए पूर्वांचल विश्वविद्यालय के जिला मुख्य आयुक्त रोवर एवं प्रज्ञा रेंजर प्रभारी डॉ शिव कुमार ने कहा कि प्रत्येक मानव को मानव होने के कारण कुछ विशेष मौलिक अधिकार प्राप्त है जिसे मानवाधिकारों के रूप में जाना जाता है। असमानताओं को कम करना तथा मानवाधिकारों को आगे बढ़ाना वर्ष 2023 के विश्व मानवाधिकार की मुख्य थीम है। इस अवसर पर उपस्थित प्रोफेसर उमाशंकर प्रसाद ने सभी मनुष्य स्वतंत्र पैदा हुए हैं तथा अधिकारों एवं सम्मान में समान है।

इन अधिकारों का संरक्षण एवं क्रियान्वयन करना प्रत्येक नागरिक की जिम्मेदारी है। प्राचीन इतिहास विभाग के प्राध्यापक डॉ विकास सिंह ने मानवाधिकारों को उसके ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य में समझाते हुए बताया कि यूरोप में पुनर्जागरण काल के पूर्व ईश्वर एवं धर्म की सत्ता प्रबल थी तथा राजतंत्र में मानवाधिकारों पर बात करना बेमानी था। लेकिन पुनर्जागरण एवं उसके पश्चात अमेरिका एवं फ्रांस की क्रांति के पश्चात मानव अधिकारों के संरक्षण एवं क्रियान्वयन को प्राथमिकता के रूप में लिया जाने लगा। युद्ध एवं अन्य परिस्थितियों में मानवाधिकारों के घोर उल्लंघन ने वैश्विक संस्थाओं को अंतरराष्ट्रीय मानव अधिकारों के संरक्षण के लिए प्रयास करने के तहत 1948 में 10 दिसंबर को मानवाधिकार दिवस घोषित किया गया।

प्रत्येक समय एवं क्षेत्र में विशिष्ट पीड़ित लोगों के मानवाधिकारों के संरक्षण की वकालत की जाती रही। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्राचार्य डॉ सविता भारद्वाज ने रेंजर बच्चों से मानव अधिकारों के प्रति जागरूक होने तथा मानव अधिकारों के प्रति प्रतिबद्धता दिखाने का आह्वान किया। इस दिवस की प्रासंगिकता इसी में है कि हम धरती पर कहीं भी शोषण एवं अत्याचार के विरुद्ध आवाज को अपना समर्थन दें। यही दिवस की सच्ची सार्थकता होगी। इस अवसर पर डॉ अकबरे आजम ने सड़क सुरक्षा की बात करते हुए कहा कि जब हमारा जीवन सुरक्षित रहेगा तभी हम अपने अधिकारों की बात कर पाएंगे। रेंजर श्रेया श्रीवास्तव, अंकिता पांडेय ने मानवाधिकार पर अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम का संचालन रेंजर जयति जैन, आभार ज्ञापन रेंजर लीडर सविता रावत ने किया। इस अवसर पर समीना, प्रीति बिंद, तनु कुशवाहा, नेहा कुमारी, विनीता कुमारी, साधना यादव आदि रेंजर्स उपस्थित रहे।

2 views0 comments

Komentarze


bottom of page