top of page
Search
  • alpayuexpress

पी. जी. कॉलेज, गाजीपुर में पूर्व शोध प्रबंध संगोष्ठी का हुआ आयोजन ।

पी. जी. कॉलेज, गाजीपुर में पूर्व शोध प्रबंध संगोष्ठी का हुआ आयोजन ।


किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


गाजीपुर। खबर गाजीपुर जिले से है जहां पर आज पी. जी. कॉलेज, गाजीपुर में पूर्व शोध प्रबंध संगोष्ठी का आयोजन किया गया। यह संगोष्ठी महाविद्यालय के शोध अनुसंधान एवं विकास प्रकोष्ठ तथा विभागीय शोध समिति के समक्ष महाविद्यालय के सेमिनार हाल में सम्पन्न हुई, जिसमें महाविद्यालय के प्राध्यापक, शोधार्थी व छात्र/ छात्र छात्राएं उपस्थित रहे। उक्त संगोष्ठी में हिंदी विषय की शोध छात्रा नीतू यादव ने अपने शोध प्रबंध की विषय वस्तु को प्रस्तुत किया प्रस्तुति के उपरांत शोध समिति के सदस्यों एवं प्राध्यापकों द्वारा शोध पर विभिन्न प्रकार के प्रश्न किया गया, जिसमें नीतू यादव ने सभी प्रश्नों का उत्तर दिया शोध प्रबन्ध पूर्व संगोष्ठी निराला जी के विद्रोही विचारों के मूल्यांकन पर किया गया। नीतू यादव ने बताया कि निराला जी एक विद्रोही चेतना के कवि तथा लेखक थे। इस विद्रोह का प्रभाव उनके सम्पूर्ण साहित्य पर पड़ा। समाज में वर्ग संघर्ष तथा कुप्रथाओं को देखकर उनके अन्दर क्रांति का उद्वेलन हुआ। समाज मे कमजोर वर्ग के प्रति उनके हृदय में अपार प्रेम समाया हुआ था। उन्होनें शोषक वर्ग के प्रति विद्रोह किया। निराला एक प्रकार से कबीर की परम्परा के कवि हैं। निराला जी के अन्दर सामाजिक असमानता ने विद्रोही स्वर भर दिया।

1 view0 comments

Opmerkingen


bottom of page