top of page
Search
  • alpayuexpress

दोहरे हत्याकांड की घटना का 24 घण्टे के अन्दर गाजीपुर पुलिस ने किया खुलासा

मुहम्मदाबाद/गाजीपुर/उत्तर प्रदेश


दोहरे हत्याकांड की घटना का 24 घण्टे के अन्दर गाजीपुर पुलिस ने किया खुलासा


किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


गाजीपुर:- थाना मुहम्मदाबाद व स्वाट की संयुक्त टीम के द्वारा थाना मुहम्मदाबाद जनपद गाजीपुर में दिनांक 14 नवम्बर 2022 को पंजीकृत मुकदमा सख्या 262/2022 धारा 302/201 भादवि की डबल मर्डर मिस्ट्री की घटना का 24 घण्टे के अन्दर सफल अनावरण कर आलाकतल के साथ अभियुक्त की गिरफ्तारी की गई।

उक्त अभियोग की एसपी ग्रामीण व क्षेत्राधिकारी मुहम्मदाबाद के कुशल निर्देशन में चल रही जांच विवेचना से यह तथ्य प्रकाश में आया कि उक्त अभियोग के वादी गौरीशंकर पुत्र स्वर्गीय केदार निवासी ग्राम कठउत थाना मुहम्मदाबाद जनपद गाजीपुर दिनांक 9 अक्तूबर 2020 को अपने पड़ोस के मोहन राजभर की साढ़े सात मण्डा 15 विस्वा जमीन उसके परिवार के रजामंदी के बिना बहला फुसलाकर गांव के ही मुसाफिर राम को 23 लाख में तय कर संजय राय वर्तमान ग्राम प्रधान के माध्यम से रजिस्ट्री करा दिया और 10 लाख रुपया संजय राय के खाते में तथा 10 लाख रुपया अपने पिता के खाते में डलवा दिया।रजिस्ट्री के बाद संजय राय द्वारा 3-3 लाख का दो चेक मोहन के नाम व 4 लाख का चेक गौरीशंकर के नाम काट कर दिया गया।मोहन व गौरीशंकर यूनियन बैंक आफ इण्डिया शाहबाज कुली में जाकर पैसा निकालकर गांव में आये और गौरी ने कहा कि पैसा मैं रखा हूँ बाद में दे दूंगा तो तुम्हारे घर वाले जान जाएंगे। इसके बाद गौरी अपनी पत्नी व बच्चों को लेकर अपने ससुराल चला गया।तब से उसकी पत्नी व बच्चे ससुराल में ही रह रहे है। माँ की तबीयत खराब होने पर उसकी बहन मालती करीब एक वर्ष से यही रह रही है।रजिस्ट्री की बात मोहन के लड़के को जानकारी हुई तो गांव वालो की पंचायत हुई और तय हुआ कि 11 लाख 50 हजार गौर के पास है और 11 लाख 50 हजार संजय राय के पास है।संजय राय अपने हिस्से का पैसा देने को तैयार थे। मुसाफिर राम मुकदमे में बयान देकर जमीन वापस कर देने की बात तय हुई थी परन्तु गौरी हीला हवाली करता चला आ रहा था। दिनाक 24 जनवरी 2020 को पुन पंचायत हुई तो गौरी ने कहा कि मैं अपना घर बेच कर दिनांक 26 अक्तूबर 2022 को पैसा दे दूंगा।तब से अब तक एक दो दिन का समय लेता रहा।उसकी माँ घर बेचने को तैयार नही थी पर दबाव डाल रहा था। विवेचना के क्रम में गवाहो के बयान अभिलेखीय साक्ष्य के पुख्ता सबूत पाये जाने पर गौरीशंकर को दिनांक 15 नवम्बर 2022 समय 3 बजकर 55 मिनट पर गौसपुर मुख्य सड़क पर गिरफ्तार कर पूछताछ किया गया तो अपना जुर्म स्वीकार करते हुए बताया कि दिनांक 13 नवम्बर 2022 को समय करीब 8 बजकर 15 मिनट पर के लगभग अपनी माँ को अपने कमरे में बुलाकर मनाने का प्रयास किया तैयार न होने पर रस्सी से गला दबा कर माँ की हत्या कर दी और शव को घसीट कर दूसरे कमरे में कर रहा था कि मेरी बहन भी आ गयी और विरोध किया व चिल्लाने लगी तो उसी रस्सी से उसका गला दबा कर उसकी भी हत्या कर दिया और उसी समय मेरी बहन का नाती आ गया रोने पर उसका गला दबाया बेहोस हो जाने पर वही छोड़कर रस्सी अपने तखत के नीचे छुपाकर भाग कर राजू कुशवाहा के घर चल गया,जहां पर पूर्व नियोजित दावत थी जिसका खर्च मैने स्वयं दिया था। भोजन के बाद राजू के साथ साथ ट्रैक्टर जिसे राजू चला कर खेत जोत रहा था मै ट्रैक्टर पर बैठा रहा जुताई के बाद उसी के घर पर आकर सो गया। सुबह दोनो करीब 5 बजे उठकर मेन रोड पर गये और सुभाष राजभर को फोन कर चाय की दुकान पर बुलाया आने के पूर्व हम दोनो पूर्व ग्राम प्रधान गौसपुर झन्ने के घर पर गये और घटना की जानकारी दी और पुन चाय की दुकान पर आकर घटना के बारे में बताया और 112 पर मै सुभाष राजभर के फोन से दो औरते व एक बच्चे की हत्या की सूचना दिया था। गौरीशंकर की निशान देही पर उसके तख्त की नीचे सिरहाने से आलाकत्ल रस्सी बरामद हुई तथा उसके हस्तलेख का एक पत्र तकिया के नीचे से बरामद हुआ जो घटना के पूर्व के लिखने व घटना में पुष्टी करता है। गौरीशंकर एक शातिर किस्म का अपराधी प्रवृति का व्यक्ति है इसका आपराधिक इतिहास भी है तथा माननीय न्यायालय से 7 वर्ष की सजा हुई है।

7 views0 comments

Comments


bottom of page