Search
  • alpayuexpress

तीन माह से वेतन नहीं, चिकित्सक व कर्मियों ने की हड़ताल


(चन्दौली से अशोक केशरी की रिपोर्ट)


तीन माह से वेतन नहीं, चिकित्सक व कर्मियों ने की हड़ताल



चंदौली। जिला अस्पताल परिसर स्थित 100 बेड के मातृ व शिशु विग (कोरोना संदिग्धों के लिए बना 60 बेड का क्वारंटाइन सेंटर) में तैनात चिकित्सक और स्वास्थ्यकर्मियों ने हड़ताल कर दिया। तीन महीने से वेतन नहीं मिलने पर व्यवस्था के खिलाफ नाराजगी जताई। अधिकारियों पर अनदेखी का आरोप लगाया। कहा कि अपनी समस्या को लेकर सीएमओ के यहां जाते तो सीएमएस के यहां भेज दिया जाता, सीएमएस के यहां से सीएमओ के यहां जाने को कहा जाता है। कोरोना संदिग्धों के इलाज को वे वैसे ही जान हथेली पर रखकर काम कर रहे हैं, इसमें भी उन्हें वेतन व अन्य सुविधाएं नहीं दी जा रही है। जानकारी पर पहुंचे चिकित्साधीक्षक डा. केसी सिंह ने सभी को समझा बुझाकर शांत किया। इससे चिकित्सक दो घंटे बाद काम पर लौट गए। कहा सोमवार से विरोध स्वरूप बांह पर काली पट्टी बांधकर काम करेंगे।

चिकित्सकों ने कहा सीएमओ की ओर से कई बार कहने के बाद तीन दिन पूर्व परिसर को सैनिटाइज कराया गया था, उसके बाद एक बार भी छिड़काव तक नहीं किया गया। महिला चिकित्सकों ने कहा ड्यूटी को आने के दौरान उन्हें रास्ते में पुलिस परेशान करती है। चिकित्सक बताने के बाद भी उनसे तमाम सवाल पूछे जाते हैं। इस विपरीत परिस्थिति में अपार चुनौतियों का सामना करते हुए वे दायित्वों का निर्वहन कर रहे हैं। वहीं उच्चाधिकारियों व संस्थान की अनदेखी खल रही है। यहां तैनात 119 चिकित्सक व स्वास्थ्यकर्मियों को तीन माह से वेतन का भुगतान नहीं किया गया। डीएम व सीएमओ को प्रार्थना पत्र दिया गया, लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई। ऐसे में उनका हौसला अब टूटने लगा है। कहा कि अभी तक उनका कोई दुर्घटना बीमा भी नहीं किया गया। 119 कर्मियों का स्टाफ तीन शिफ्टों में ड्यूटी करता है। सुबह की शिफ्ट में चिकित्सक, पैरामेडिकल स्टाफ समेत करीब 40 कर्मी रहते हैं, इसी तरह दूसरी और तीसरी शिफ्ट में। इस दौरान डा. शिवप्रकाश सिंह, डा. विवेक सिंह, डा. दिनेश सिंह, डा. मधुलिका शुक्ला, स्टोर इंचार्ज अशोक त्रिपाठी, नवीन, आफरीन, माधुरी देवी, मालती देवी, स्मृति देवी, तृप्ति, फिरोज आदि मौजूद थे। पीपीपी के तहत संचालित है अस्पताल100 बेड के एमसीएच विग पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत संचालित है। बिल्डिग व संसाधन सरकार के हैं। जबकि चिकित्सक, पैरामेडिकल स्टाफ व स्वास्थ्यकर्मियों की नियुक्ति हेरिटेज अस्पताल के माध्यम से की गई है। इनका वेतन हेरिटेज की ओर से ही दिया जाता है। जिला प्रशासन ने एमसीएच विग को अधिग्रहित कर 60 बेड का क्वारंटाइन सेंटर बनाया है। 13 संदिग्ध मरीज यहां क्वारंटाइन हैं। चिकित्सकों ने कहा वैश्विक महामारी के मुश्किल दौर में पैसे के अभाव में घर-परिवार चलाना उनके लिए भारी पड़ रहा। स्वास्थ्य सचिव को हेरिटेज का बजट जारी करने के संबंध में पत्र भेजा गया है। एक सप्ताह में फंड जारी होने की संभावना है।

1 view0 comments