top of page
Search
  • alpayuexpress

तेज रफ्तार ट्रैक्टर ने बाइक को रौंदा!...बाइक चला रहे युवक की हुई दर्दनाक मौत,परिजनों ने डेढ़ घंटे तक

तेज रफ्तार ट्रैक्टर ने बाइक को रौंदा!...बाइक चला रहे युवक की हुई दर्दनाक मौत,परिजनों ने डेढ़ घंटे तक किया चक्का जाम


किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


खानपुर। खबर गाजीपुर जिले से है जहां पर थानाक्षेत्र के ददरा मोड़ पर तेज रफ्तार ट्रैक्टर ने बाइक को रौंद दिया, जिसमें बाइक चला रहे युवक की दर्दनाक मौत हो गयी। वहीं उस पर बैठा उसका बड़ा भाई बाल बाल बच गया। लेकिन आंखों के सामने छोटे भाई की मौत देखकर वो सदमे में आ गया। इधर घटना के बाद नाराजगी में परिजनों ने ददरा मोड़ पर चक्का जाम कर दिया। जिसके बाद हड़कंप मच गया। काफी देर बाद पहुंचे एसडीएम ने समझाया बुझाया, तब जाकर करीब डेढ़ घंटे बाद जाम खत्म हुआ। ददरा निवासी रमाशंकर राम दुबई में काम करता है। उसका छोटा भाई उमाशंकर 21 पुत्र मेवालाल पढ़ाई करता था और ट्यूशन पढ़ाकर अपना खर्च निकालता था। इस बीच रमाशंकर दुबई से घर आया तो उसे सैदपुर बस स्टैंड से लेने के लिए उमाशंकर बाइक से गया और उसे बिठाकर लेकर घर आ रहा था। अभी वो घर से महज कुछ ही कदम की दूर ददरा मोड़ पर था कि तभी तेज रफ्तार ट्रैक्टर ने उसे रौंद दिया। जिसमें उमाशंकर की दर्दनाक मौत हो गयी। वहीं रमाशंकर बाल बाल बच गया। तत्काल उसे सैदपुर सीएचसी लाया गया, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। इधर शव को कब्जे में लेने के लिए कथित रूप से खानपुर एसओ संजय मिश्र ने मृतक के पिता से अभद्रता कर दी, जिसके बाद परिजन नाराज हो गए और ददरा मोड़ पर ही धरने पर बैठ गए और मुआवजा व आरोपी को सजा देने की मांग करने लगे। करीब एक घंटे तक जाम के बाद पहुंची पुलिस ने उन्हें एफआईआर की कॉपी दिखाई तो वो धरना खत्म कर घर पहुंचे। वहां सैकड़ों की संख्या में महिलाएं जुटी थीं और वहां वो भी धरने पर बैठ गईं। जिसके बाद पहुंचे एसडीएम डॉ. पुष्पेंद्र पटेल व खानपुर के नायब तहसीलदार विजयकांत ने समझाया और मुआवजे के लिए आश्वासन दिया, जिसके बाद धरना खत्म हुआ। कुछ देर बाद सीओ भी मौके पर पहुंच गए। इधर स्थिति की गंभीरता देखते हुए खानपुर के अलावा सैदपुर पुलिस भी पहुंच गई थी। कोतवाल वंदना सिंह भी मौके पर मौजूद रहीं। धरना खत्म होने के बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घटना के बाद परिजनों में कोहराम मच गया। बहन समेत मां आदि का रो-रोकर बुरा हाल था।

1 view0 comments

Comentarios


bottom of page