top of page
Search
  • alpayuexpress

ठेकेदार ने पुरानी पुल को किया ध्वस्त!...अंग्रेजों के जमाने पुल तोड़ डाल दिया पुलिया ग्रामीणों में आक

ठेकेदार ने पुरानी पुल को किया ध्वस्त!...अंग्रेजों के जमाने पुल तोड़ डाल दिया पुलिया ग्रामीणों में आक्रोश किया विरोध


⭕नदी और नहर को पानी से आई तो किसानों का फसल होगी बर्बाद व घर में घुसेगी पानी


आदित्य कुमार सीनियर क्राइम रिपोर्टर


गाज़ीपुर। खबर गाजीपुर जिले से है जहां पर गाजीपुर आजमगढ़ राजमार्ग 67 का नवीनीकरण में मानक की विपरीत कार्य करने पर ग्रामीणों ने विरोध जमकर विरोध जताते हुए पीडब्ल्यूडी विभाग के खिलाफ नारे लगाए। मालूम हो कि बिरनो थाना से मऊ बॉर्डर पर स्थित हरदासपुर खुर्द गांव के तक 19.560 मीटर सड़क का निर्माण कराया जा रहा है लेकिन जफरपुर गांव के पास अंग्रेजों के जमाने में पुल बनाया गया था जिससे दर्जनों गांव के आने वाली मगई नदी,नहर, और बारिश का पानी पुल से क्रॉस करके खड़ौरा, तालभीतर,करूई, सोमरबारी, रामपुर पतारी, हरदासपुर कला होते हुए भैंसही नदी तक जाती थी ।जिससे किसानों की खेती ब भी अच्छी होती थी और लोगों के घरों में पानी इकट्ठा नहीं हो रही थी लेकिन ठेकेदार ने पुरानी पुल को ध्वस्त करके एक पुलिया छोटी से डाल दिया ।जिससे अब पानी क्रॉस करना मुश्किल हो जाएगा और पानी इकट्ठा होगी तो दर्जनों गांव के किसानों की फसल डूबेगी साथ ही घरों तक पानी पहुंच जाएगी ।जिसके चलते दर्जनों की संख्या में लोगों ने पुल पर खड़ा होकर हाथ उठाकर इसका विरोध जाता है और पीडब्ल्यूडी विभाग के खिलाफ नारे लगाए साथ ही कई लोगों का शिकायत है कि सड़क का निर्माण काफी घटिया तरीके से कराई जा रही है। जो सड़क कुछ दिन में ही उखड़ जाएगी। विरोध जताने वाले सुभाष राजभर ,सदानंद राजभर, राजदेव साधु ,मुन्नी राजभर ,समीर अहमद ,अभिराज राजभर ,श्रवण राजभर, राजेंद्र राजभर ,हरिलाल, सुदामा, राजा राजभर, श्याम लाल , सेचू राजभर सहित काफी संख्या में लोग मौजूद रहे। लोक निर्माण विभाग के सहायक अभियंता खुर्शीद अहमद से बात हुई तो उन्होंने कहा कि वहां की जेई और ठेकेदार से बात होगी और वहां पर बेहतर तरीके से कार्य करने का कार्य कराया जाएगा साथ ही सड़क का लंबाई 19.560 मी. का कार्य जा रहा है ।पूरी तरह से सख्त हिदायत दी गई है कि मानक के अनुरूप कार्य कराया जाए। अगर मानक के अनुरूप कार्य नहीं होगी तो जांच कराई जाएगी और दोषियों पर कार्रवाई कराई जाएगी।

9 views0 comments

Opmerkingen


bottom of page