top of page
Search
  • alpayuexpress

जिले में डेंगू जैसी बीमारियों के मरीजों की बढ़ती संख्या से चिंतित हैं , डॉक्टर!...लगातार बढ़ रहे , ड

गाजीपुर/उत्तर प्रदेश


जिले में डेंगू जैसी बीमारियों के मरीजों की बढ़ती संख्या से चिंतित हैं , डॉक्टर!...लगातार बढ़ रहे , डेंगू जैसी बीमारियों के उपाय को डॉ. राजेश सिंह ने बताया


सुभाष कुमार सीनियर क्राइम रिपोर्टर


गाजीपुर:- जनपद में लगातार कुछ दिनों से बढ़ रहे , डेंगू जैसे घातक बिमारी के कारण स्वास्थ्य विभाग एवं जनमानस में दहशत का माहौल बना हुआ है । जिसके निदान करने हेतु सरकार द्वारा लगातार जागरूकता अभियान चलाये जाने के बाद भी डेंगू के मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है । प्राप्त जानकारी के अनुसार डेंगू की बीमारी मच्छरों के काटने के कारण होती है । आपको बताते चलें कि जिले में डेंगू जैसी बिमारी के रोकथाम हेतु उपाय करने का प्रयास मुख्य चिकित्सा अधिकारी हरिगोविंद सिंह के नेतृत्व में लगातार किया जा रहा है । फिर भी मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है । ऐसे में जब पत्रकारों ने सिंह लाइफ केयर हॉस्पिटल के चेयरमैन डॉ. राजेश सिंह से बात किया तो उन्होंने बताया कि डेंगू जैसी बीमारियों के बचाव करने के लिए मच्छरदानी का प्रयोग करना चाहिए तथा अपने शरीर पर लोशन का प्रयोग करते हुए , फुल साइज का कपड़ा पहनना चाहिए । और अपने घरों के आसपास इकट्ठा पानी एवं घरों में प्रयोग किए जाने वाले कूलर का पानी की साफ-सफाई हमेशा रखनी चाहिए । डॉ. राजेश सिंह ने बताया कि डेंगू मरीजों में प्लेटलेट्स की कमी के कारण मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। जबकि डेंगू के मरीजों को विभिन्न अस्पताल के डाक्टर भर्ती करा लेते है , जबकि उनके पास प्लेटलेट्स की व्यवस्था नहीं होने के कारण मरीजों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता हैं। जिससे मरीजों को प्लेटलेट्स समय से उपलब्ध नहीं हो पाता है ‌। ऐसे स्थिति में डॉ० राजेश सिंह ने बताया कि प्लेटलेट्स को ब्लड बैंक से जारी करने के बाद 30 मिनट के अंदर मरीज को चढ़ा देना चाहिए । नहीं तो प्लेटलेट्स टूटने लगते हैं और उनको चढ़ाने से कोई फायदा नहीं होता है । इसलिए अगर डेंगू के मरीज को प्लेटलेट ट्रांसफ्यूजन की आवश्यकता है , तो कोशिश यह करनी चाहिए कि जहां पर ब्लड बैंक में प्लेटलेट्स की सुविधा उपलब्ध हो , वहीं पर मरीज को भर्ती कराएं या ऐसा नहीं कर सकते हैं , तो प्लेटलेट्स को जल्दी से जल्दी ले जाकर 30 मिनट के अंदर मरीज के शरीर में ट्रांसफ्यूज करा दें।

2 views0 comments

Comments


bottom of page