top of page
Search
  • alpayuexpress

चुनावी चंदे की जानकारी साझा न करना लोकतंत्र के लिए घातक!..जिला कांग्रेस पार्टी और शहर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन

चुनावी चंदे की जानकारी साझा न करना लोकतंत्र के लिए घातक!..जिला कांग्रेस पार्टी और शहर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन


किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


गाजीपुर:- खबर गाज़ीपुर ज़िले से है जहां पर शीर्ष नेतृत्व के आह्वान पर जिला कांग्रेस पार्टी और शहर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने गुरुवार को भारतीय स्टेट बैंक की मुख्य शाखा के सामने गांधीवादी तरीके से धरना प्रदर्शन किया। जिलाध्यक्ष सुनील राम ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने भाजपा की चुनावी बांड योजना को असंवैधानिक मानते हुए उस पर रोक लगा दी है। अदालत ने इसके साथ ही साथ ही भारतीय स्टेट बैंक को चुनावी चंदे की पूरी जानकारी 6 मार्च से पहले सार्वजनिक कर निर्वाचन आयोग को सौंपने का निर्देश दिया था। एसबीआई द्वारा इसका पालन अभी तक नहीं किया गया है।शहर अध्यक्ष संदीप विश्वकर्मा ने एसबीआई पर सरकार के दबाव में काम करने का आरोप लगाया। संभावित जोखिम को लेकर चिंतित मोदी सरकार ने भारतीय स्टेट बैंक पर जानकारी साझा न करने का दबाव डाला है, जो लोकतंत्र के लिए घातक है। वहीं प्रवक्ता अजय श्रीवास्तव ने बताया कि काले धन पर सबको ज्ञान देने वाली भाजपा आज खुद अपने काले धन को उजागर करने से डर रही है। डॉ जनक कुशवाहा ने कहा कि चुनावी बांड योजना भाजपा सरकार द्वारा 2017 में शुरुआत के बाद से राजनीतिक दलों को सामूहिक रूप से 12000 करोड़ रुपए से अधिक चंदा प्राप्त हुए ,जिसमें से अकेले भाजपा को 6566.11 करोड़ रुपए प्राप्त हुए जो सभी चुनावी चंदा का 55% है, भाजपा अपने दानदाताओं के बारे में जानकारी सार्वजनिक होने से डर रही है। इस अवसर पर प्रमुख रूप से ज्ञान प्रकाश सिंह मुन्ना, अजय कुमार श्रीवास्तव, महबूब निशा, बटुक नारायण मिश्रा, चंद्रिका सिंह, हामिद अली, राम नगीना पांडेय, सतीश उपाध्याय, इस्लाम मास्टर, दिव्यांशु पांडेय ,धर्मेंद्र, मिलिंद सिंह, कुंदन खरवार, आलोक यादव ,माधव कृष्ण सहित काफी संख्या में लोग उपस्थित रहे l

2 views0 comments

Comments


bottom of page