top of page
Search
  • alpayuexpress

क्या ? बिजली विभाग के लोग कर रहे हैं हादसे का इंतजार!...बिजली के जर्जर तार,गांव के सैकड़ों लोगों के लिए बना मुसीबत कारण

क्या ? बिजली विभाग के लोग कर रहे हैं हादसे का इंतजार!...बिजली के जर्जर तार,गांव के सैकड़ों लोगों के लिए बना मुसीबत कारण


अंकित दुबे पत्रकार


गाजीपुर:- खबर गाजीपुर जिले से है जहां पर भांवरकोल कुण्डेसर (कबीरपुर खुर्द )बिजली के जर्जर तार गांव के सैकड़ों लोगों के लिए मुसीबत बन गए हैं। लगातार मांग के बाद भी इनसे छुटकारा नहीं मिल पा रहा है। बिजली विभाग के लोग हादसे के इंतजार में हैं। यहां से गुजरने वाले वाहनों को भी डंडे से तार ऊपर उठाने के बाद निकलने का रास्ता मिल पाता है। इसी तरह कहीं पेड़ो पर तो कहीं पर डंडों के सहारे तार बंधे हुए हैं। जनपद महाहर धाम  पर बस में हुई बिजली दुघर्टना पुरे जनपद सहित राज्य तक दहशत बन गया है लेकिन इसके बावजूद भी बिजली विभाग के अधिकारी मौन है

नेशनल हाईवे 31 सड़क में बिजली के जर्जर तार अर्से से लोगों के लिए परेशानी का सबब बने हैं। अक्सर तार टूट कर सड़क पर गिरते हैं। इससे कई बार बड़ा हादसा भी टल चुका है। कुछ लोग व मवेशी तार की चपेट में आकर घायल हो चुके हैं। खैर नेशनल हाईवे 31 से गुजरते वक्त यात्रियों को हर पल मौत का खतरा बना रहता है। यात्री भी जर्जर तारों को देख डरे हुए हैं। इन्हीं जर्जर तारों से बिजली की आपूर्ति एक हजार से अधिक घरों में की जा रही है। खैरनगर रोड पर कई जगह तारों को रस्सी से बांधकर पेड़ों में कस दिया गया है। इनको डंडे से भी बांधा गया है। यहां अक्सर तार टूटते हैं।

आफत बनी बिजली की ट्रि¨पग

जर्जर तार टूटने से रोजाना घंटों बिजली कटौती की जाती है। दिन भर बिजली ट्रि¨पग की समस्या से उपभोक्ताओं को जूझना पड़ता है। तार रात के वक्त तार टूटने पर कोई भी कर्मचारी जल्दी जोड़ने के लिए नहीं पहुंचता है। इससे घंटों बिना बिजली के लोग परेशानी में फंसे रहते हैं। अक्सर रात मे गई बिजली सुबह ही आती है। आपूर्ति बहाल करने में घंटों लगते हैं।

गर्मी में बढ़ता तारों पर लोड, कई हादसे

गर्मी अब रौदरुप दस्तक दे चुकी है। इससे बिजली की खपत बढ़ जाएगी। ओवरलो¨डग की वजह से तार ज्यादा टूटने तय हैं। जर्जर तारों पर सैकड़ों घरों में बिजली आपूर्ति का लोड होने से समस्या गंभीर हो जाएगी। कई जगहों पर तो बिजली के जर्जर तार लोगों के मकानों की छतों को छूकर निकले हैं। इससे समस्या बढ़ी है। यहां कई बार हादसे भी चुके हैं।

3 views0 comments

Comments


bottom of page