Search
  • alpayuexpress

ऑनलाइन खरीददारी ना करे, अल्पायु एक्सप्रेस न्यूज़ की खबर को अच्छे से पुरा पढे फिर सोचे, समझे विचार‌ क

हंसराजपुर/गाज़ीपुर/उत्तर प्रदेश


परिवार के साथ खरीददारी करने घर के बाहर निकले!....हंसराजपुर बाजार में होगी रौनक और देश का पैसा देश में रहेगा मरते बाजारों को मिलेगा जीवनदान


ऑनलाइन खरीददारी ना करे, अल्पायु एक्सप्रेस न्यूज़ की खबर को अच्छे से पुरा पढे फिर सोचे, समझे विचार‌ करे हमें क्या करना चहिये...


किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


हंसराजपुर मनिहारी:- खबर गाजीपुर जिले से है जहां पर अल्पायु एक्सप्रेस न्यूज़ खबरों के माध्यम से ग्राहकों को ऑनलाइन खरीदारी से ठगे जाने से बचने का और अपने बाजारों में रौनक लाने का एक प्रयास अपने खबरों के माध्यम से कर रहा है आइए आपको बताते हैं क्या है खबर बाजारों की कुछ कहानी और कुछ मुहावरों,उदाहरण के माध्यम से जिस प्रकार कुत्ता हड्डी चूसता है, और हड्डी के नुकीलेपन के कारण जो उस का खून खुद उसी की जीभ से निकलता है, वह  उस खून को चूस चूस कर हड्डी को चूसने में आनंद महसूस करता है...

ठीक उसी प्रकार ऑनलाइन शॉपिंग में मिलने वाला डिस्काउंट या सस्ता माल है, हम लोग यह नहीं समझ पाते कि वह सस्ता माल खरीद कर हम अपना ही खून पी रहे हैं।

इसको समझाने के लिए मैं एक छोटा सा उदाहरण दूंगा...समय निकाल कर अवश्य पढ़ें...

मान लीजिए कि एक गांव ऐसा है, जहां बाहर से कोई भी नहीं आ सकता है और ना बाहर जा सकता है, मतलब कि उस गांव के अंदर हर काम को करने वाला इंसान ( कामगार ) मौजूद है, चाहे वह नाइ का काम हो, चाहे मोची का, चाहे खेती का, पढ़ाने का या खाना बनाने का जैसे ढाबा वगैरा दर्जी का या बढ़ाई का या लोहार का आप यूं समझिए कि हर इंसान किसी ना किसी आवश्यकता को पूरा करता है, एक इंसान का खर्च दूसरे इंसान की कमाई है इस प्रकार सभी खर्च करते हैं और सभी कमाते हैं

अब इस गांव में एक व्यापारी बाहर से आया और उसने सबसे सस्ता माल, सेवायें और सुविधाएं देने का दावा किया

अब चाहे वह अनाज हो, इलेक्ट्रॉनिक चीज़े हो, कपड़ें हों, जूते हों, मतलब सब कुछ जो किसी को भी चाहिए इस प्रकार सब कुछ सस्ता सस्ता उसने सबको उपलब्ध करवाया अब आप समझिए असल में हुआ क्या उस गांव में, जो कभी जो उत्पादक थे या सर्विस प्रोवाइडर थे और ग्राहक भी थे, वह सब केवल ग्राहक बन के रह गए‌ मतलब केवल खर्च करने वाले, अब‌ पहली बात सब खर्च तो कर रहे थे किंतु उस खर्च से कमाई उस गांव में किसी को नहीं हो रही थी...

दूसरी बात सब ने खर्च किया सस्ते के लालच में उस व्यापारी के पास जो बाहर से आया था और वह व्यापारी कमा तो रहा था इस गांव में और खर्च रहा था अपने खुद के शहर में  तो आप समझिए उस गांव के लोगों का हाल क्या होगा बेरोजगारी इतनी बढ़ जाएगी कि जल्दी ही भुखमरी का रूप ले लेगी यह बहुत भयानक स्थिति है, और भैया यही हाल हमारे देश का हो रहा है और होने वाला है या तो जाग जाओ और अपने मोहल्ले पड़ोस के व्यापारियों से ही सामान खरीदो, अपने मोहल्ले पड़ोस में खर्च करो

*गारन्टी से कहता हूँ बेरोजगारी खत्म हो जाएगी....*

18 views0 comments