top of page
Search
  • alpayuexpress

एसपी के निर्देश पर नपां चेयरमैन रियाज अंसारी पर लटकी 25 हजार की तलवार!...देर रात एसपी ओमवीर सिंह अचा

एसपी के निर्देश पर नपां चेयरमैन रियाज अंसारी पर लटकी 25 हजार की तलवार!...देर रात एसपी ओमवीर सिंह अचानक आए एक्शन मोड में


किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


गाजीपुर:- खबर गाजीपुर जिले से है जहां पर अपराध जगत में भूचाल मचाने वाले आईएस (191) गैंग के सरगना मुख्तार अंसारी के करीबी और बहुचर्चित निकहत परवीन केस में फरार चल रहे बहादुरगंज नपां चेयरमैन रियाज अंसारी व जेडी आफिस वाराणसी के क्लर्क परवेज जमाल समेत मदरसा प्रबंधक नजीर सलामी और जियाउल इस्लाम के सिर पर एसपी के निर्देश पर 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया गया हैं यह कार्रवाई शुक्रवार की देर रात हुई। हालांकि आधिकारिक तौर पर इस खबर को ओपेन नहीं किया गया है, लेकिन एक अखबार के जिला संवाददाता से मोबाइल पर हुई वार्ता के दौरान पुलिस महकमे के कुछ आला अधिकारियों ने इनाम घोषित किये जाने के सूचना की पुष्टि कर दी है। हांलाकि यह खबर पूरे बहादुरगंज कस्बे में फैल गई है। माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के करीबियों पर हो रही ताबड़तोड़ कार्रवाई से पूरे अपराध जगत में खलबली मची हुई है। निकहत परवीन के केस में फरार चल रहे चारों इनामी के पैरोकारों पर भी पुलिस ने नकेल कसना शुरु कर दिया हैं। सूत्र बताते है कि चेयरमैन हरयाज अंसारी के पैरोकार वसीम अब्बासी समेत नजीर सलामी के पैरोकार छन्ने नाऊ और परवेज जमाल के पैरोकार अफजल को पुलिस ने लिस्टेड कर दिया है। सूत्र बताते है कि शुक्रवार की देर रात एसपी ओमवीर सिंह अचानक ही एक्शन मोड में आये और एएसपी ग्रामीण बलवंत और सीओ कासिमाबाद बलिराम से मोबाइल पर वार्ता कर केस के सम्बंध में काफी देर तक चर्चा की। इसके बाद उन्होंने इनाम घोषित करने की कार्रवाई को पूरा करने का निर्देश दिया। एसपी का निर्देश मिलने के बाद कासिमाबाद एसओ भी तत्काल एक्शन मोड में आये और कागजी कार्रवाई पूरी कर फरार आरोपितों के सिर पर इनाम घोषित कर दिया। सूत्र बताते है कि यदि इनाम घोषित होने के दो सप्ताह के अंदर तक फरार आरोपितों ने सरेंडर नहीं किया या फिर वह पुलिस के हत्थे नहीं चढ़े तो इनके ऊपर इनाम की धनराशि बढ़ाये जाने के सम्बंध में आईजी जोन को लेटर भेजा जायेगा।

पूरे प्रकरण पर एक नजर

बहादुरगंज नपां की पूर्व चेयरमैन व वर्तमान चेयरमैन रियाज अंसारी की पत्नी निकहत परवीन से कहानी शुरु होती है। कूटरचित दस्तावेजों के आधार पर निकहत परवीन एक मदरसे में सहायक अध्यापिका के पद कार्यरत थी। जब इसकी जानकारी अल्पसंख्यक विभाग के अधिकारियों को हुई तो उन्होंने जांच कराया, जिसमें आरोप सही पाया गया। इस मामले में विभागीय जांच रिपोर्ट के आधार पर निकहत परवीन को बर्खास्त कर दिया गया। यही नहीं निकहत के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने उसे जेल भी भेज दिया। इसी केस में निकहत के पति नपां चेयरमैन रियाज अंसारी समेत परवेज जमाल, नजीर सलामी व जियाउल इस्लाम के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया।

जमीन हड़पने व धमकी देने का भी आरोप

निकहत परवीन के केस से अभी बहादुरंगज चेयरमैन रियाज अंसारी को अभी राहत भी नहीं मिल पाई थी कि दो दिन पूर्व कस्बे के ही मरछू नाम के व्यक्ति ने उस पर उसकी 22 एयर जमीन जबरिया हड़पने और धमकी देने का आरोप लगाते हुए कासिमाबाद थाने में मुकदमा दर्ज करा दिया है। इस केस में भी पुलिस को रियाज अंसारी की तलाश हैं।

मुख्तार के गैंग लिस्ट में शामिल हो सकता है रियाज का नाम

सूत्र बताते है कि मुख्तार अंसारी की रहनुमाई में ही रहकर रियाज अंसारी ने अकूत दौलत कमाई है। उसे चेयरमैन बनाने के पीछे भी मुख्तार अंसारी का ही हाथ है। ऐसे में मुख्तार अंसारी के गैंग का भी वह एक प्रमुख सदस्य रहा है। सूत्र बताते है कि पुलिस को रियाज के खिलाफ एक के बाद एक नये केस मिल रहे है। ऐसे में हो सकता है कि मुख्तार अंसारी के गैंग चार्ट में पुलिस रियाज अंसारी का भी नाम जोड़ दे।

रियाज के साले और नजीर के भतीजे को पुलिस ने छोड़ा

बताते चले कि मरछू द्वारा दर्ज कराये गये मुकदमे के बाद पुलिस ने चेयरमैन रियाज अंसारी के साले कमाल अंसारी व मदरसा प्रबंधक नजीर सलामी के भतीजे को हिरासत में लिया था। सूत्र बताते है कि लम्बी पूछताछ के बाद शुक्रवार की देर रात पुलिस ने दोनों को हिरासत से मुक्त कर दिया। सूत्र बताते है कि पुलिस ने दोनों को हिदायत दी है कि केस की विवेचना पूरी होने तक वह जिले से बाहर कदम नहीं रख सकते है।

कासिमाबाद सीओ बलिराम ने कहा कि

आरोपितों के खिलाफ एनबीडब्लू समेत कुर्की की नोटिस जारी हो चुकी है। रियाज अंसारी पर एक और नया मुकदमा भी दर्ज हो गया है। ऐसे में भी वह अभी तक फरार है। इसलिए एसपी ओमवीर सिंह के निर्देश पर सभी फरार आरोपितों के सिर पर 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया गया है।

1 view0 comments
bottom of page