Search
  • alpayuexpress

'एनकाउंटर कर दिया तो बुलडोजर भी चला देंगे', लखीमपुर कांड के आरोपी के परिजन घर से समेटने लगे सामान

'एनकाउंटर कर दिया तो बुलडोजर भी चला देंगे', लखीमपुर कांड के आरोपी के परिजन घर से समेटने लगे सामान



किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


लखीमपुर उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में दो सगी बहनों के साथ रेप और हत्या के आरोपी जुनैद के परिवार को अब अपने घर पर बुलडोजर चलने का डर सता रहा है. इस वजह से परिवार ने घर में सामान को समेटना शुरू कर दिया है. जुनैद के पिता ने कहा कि जब मेरे कहने पर बेटा आ ही गया था तो एनकाउंटर क्यों कर दिया? यानि पिता ने एनकाउंटर पर सवाल उठाया.

जुनैद के पिता मोहम्मद इसराइल ने कहा कि जब मैंने बेटे को फोन कर वापस बुलाया और वह पलिया से दूसरी बस पकड़ कर वापस आ रहा था, तभी खुटार टोल प्लाजा पर उसे पुलिस ने पकड़ लिया और बाद में पता चला उसे एनकाउंटर कर घायल किया गया है, अगर पुलिस बेटे का एनकाउंटर कर सकती है तो अब कहीं उनके घर पर बुलडोजर ना चल जाए.

इस घटना में गिरफ्तार अन्य आरोपियों सोहेल और करीमुद्दीन के परिजनों की ही तरह जुनैद के पिता इसराइल भी अपने बेटे को बेगुनाह बता रहे हैं. उनका कहना है कि मेरा बेटा तो हैदराबाद में ग्रिल का काम करता है, उसका इन लड़कियों से कोई सरोकार नहीं. जुनैद का परिवार दो सगी बहनों के हत्याकांड में उसके शामिल होने से साफ इनकार कर रहा है.

*अफवाह के बाद खाली करने लगे मकान*

दो सगी बहनों की रेप के बाद हत्या कर उनके शव को फांसी पर लटकाने के आरोप में पुलिस ने लालपुर गांव के 5 लोगों को गिरफ्तार किया है, जहां आज एक अफवाह उड़ी कि आरोपियों के घरों पर बुलडोजर चलेगा. बुलडोजर का डर परिवार पर ऐसा छाया कि आरोपियों के परिजन अपने घर में रखा सारा सामान हटाते दिखाई दिए.

बुलडोजर के डर से दोनों लड़कियों की रेप और हत्या के आरोपियों के परिजन अपने-अपने घरों को खाली कर रहे हैं. बुलडोजर के डर से अपने मकान को खाली कर रहे लोगों ने बताया कि यहां एक अफवाह उड़ी है कि बुलडोजर आएगा और आरोपियों के घर को गिरा देगा, जिसके लिए हम लोग अपने खाने-पीने का राशन का सामान निकाल रहे हैं.

*क्या है पूरा मामला*

गौरतलब है कि लखीमपुर के एक गांव में बुधवार को दो सगी बहनों की पेड़ से लटकती लाश मिली थी. पुलिस ने 24 घंटे के अंदर हत्या की गुत्थी सुलझाने का दावा किया है. उसके मुताबिक दो बेटियों की मौत 6 गुनहगार हैं- जुनैद, सुहैल, आरिफ, हफीजुररहमान, करीमुद्दीन और छोटू. छोटू की भूमिका को पुलिस बेहद अहम बता रही है. छोटू उन दो बहनों का पड़ोसी है, जो अब इस दुनिया में नहीं हैं. दोनों एक ही गांव और एक ही बिरादरी के हैं. दोनों घरों के बीच महज 300 मीटर की दूरी है.

पुलिस का दावा है कि दोनों लड़कियां तीनों लड़कों को जानती थीं और उन्हें बहला-फुसला कर ले जाया गया, लेकिन परिवार इस बात को कबूल नहीं कर रहा. उसका कहना है कि दोनों लड़कियों को जबरन घसीट कर ले जाया गया. इस परिवार की मानें तो इन दो बहनों के साथ ज्यादती की इंतेहा हुई है. परिवार का आरोप है दोनों को अगवा किया गया, उनसे रेप हुआ और फिर दोनों की हत्या कर शव पेड़ से लटका दिए गए.

परिवार ने सबसे पहले पड़ोस में रहने वाले छोटू पर आरोप लगाया था. परिवार का आरोप है कि जब जुनैद और उसके साथी दोनों लड़कियों को बाइक पर ले गए तब उनकी मां और पिता पुलिस थाने पहुंचे, लेकिन उनके साथ मारपीट की गई. हालांकि, पुलिस इन आरोपों से इनकार कर रही है. यही नहीं उसने सुबह होते-होते इस केस की गुत्थी सुलझाने का दावा भी कर दिया. फिलहाल पुलिस ने सभी 6 आरोपियों को जेल भेज दिया है.

29 views0 comments