Search
  • alpayuexpress

आवेदन फार्म 25 अक्टूबर से 1 नवम्बर तक आनलाइन!...स्नातक व स्नातकोत्तर स्तर पर प्रवेश के लिए चतुर्थ का

गाजीपुर/उत्तर प्रदेश


आवेदन फार्म 25 अक्टूबर से 1 नवम्बर तक आनलाइन!...स्नातक व स्नातकोत्तर स्तर पर प्रवेश के लिए चतुर्थ काउंसलिंग सूची जारी


किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


गाजीपुर। स्नातकोत्तर महाविद्यालय में स्नातक स्तर पर (बी.ए., बी.एस-सी. गणित व जीव विज्ञान, बी.एस-सी.कृषि, बी.पी ई.) एवं स्नातकोत्तर स्तर (एम.ए., एम.एस-सी., एम.एस-सी.कृषि, एम.कॉम.) पर प्रवेश के लिए चतुर्थ काउंसलिंग की सूची जारी हो गई है। यह जानकारी स्नातकोत्तर महाविद्यालय के प्राचार्य प्रोफेसर डा. राघवेंद्र कुमार पांडेय ने दी। उन्होंने बताया कि प्रवेश के लिए सफल अभ्यर्थियों की मेरिट सूची विषय एवं कक्षावार श्रेणी व आरक्षण के अनुसार जारी की गई है। प्रवेश परीक्षा में सम्मिलित सफल अभ्यर्थियों को प्रवेश के लिए कालेज की वेबसाइट www.pgcghazipur.ac.in पर सूची अपलोड कर दी गई है। प्रवेश परीक्षा में सफल अभ्यर्थी प्रवेश के लिए अपना आवेदन फार्म 25 अक्टूबर से 01 नवम्बर तक आनलाइन भर सकते हैं। अभ्यर्थी ऑनलाइन भरे गए आवेदन पत्र डाउनलोड कर आवश्यक अभिलेखों की मूल प्रति के साथ महाविद्यालय के काउंसलिंग समिति/संबंधित विभाग में 01 से 02 नवम्बर तक मुख्य सूची एवं 03 नवम्बर को सीट रिक्त रहने पर प्रतिक्षा सूची के अभ्यार्थी सुबह 09 बजे से दोपहर 01 बजे तक प्रस्तुत/जमा करेंगे। महाविद्यालय प्रशासन द्वारा जारी निर्धारित समयानुसार प्रवेश आवेदन पत्र व शुल्क जमा न करने पर उक्त सीट रिक्त मानी जाएगी और पुनः प्रवेश के लिए कोई अवसर प्रदान नहीं किया जाएगा। प्रवेश के लिए जारी मेरिट सूची से रिक्त सीटों पर उक्त मेरिट सूची से नीचे के अभ्यर्थियों को प्रवेश के लिए अवसर प्रदान किया जाएगा। प्राचार्य डा. पांडेय ने बताया कि स्नातकोत्तर महाविद्यालय द्वारा प्रवेश में डिजिटल इंडिया एवं पूर्ण पारदर्शिता की नीति अपनाते हुए पहली बार आनलाइन काउंसलिंग की व्यवस्था की गई है। आनलाइन काउंसलिंग द्वारा अभ्यर्थी घर बैठे पूर्ण पारदर्शिता के साथ प्रवेश आवेदन पत्र भर सकते हैं। प्राचार्य ने अभिभावकों से अपील की है कि समय रहते अपने पाल्यों का आवेदन पत्र ऑनलाइन भरवाकर संबंधित अभिलेखों की मूल प्रति के साथ काउंसलिंग समिति के समक्ष प्रस्तुत/जमा करने में सहयोग करें। प्रवेश के लिए सभी प्रक्रिया ऑनलाइन है। इसलिए कोई अभ्यर्थी व अभिभावक किसी बिचौलिए के झांसे में न आए और न ही किसी को प्रवेश करा देने के नाम पर कोई धनराशि या घूस दें। यदि किसी को प्रवेश करा देने के नाम पर कोई धनराशि या घूस दी जाती है तो इसकी पूरी जिम्मेदारी संबंधित अभ्यर्थी एवं अभिभावक की ही होगी।

1 view0 comments