top of page
Search
  • alpayuexpress

आध्यात्मिक ऊर्जा से रिचार्ज होकर डॉ मोहनराव भागवत ने सिद्धपीठ से किया प्रस्थान

आध्यात्मिक ऊर्जा से रिचार्ज होकर डॉ मोहनराव भागवत ने सिद्धपीठ से किया प्रस्थान


किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


गाजीपुर। खबर गाजीपुर जिले से है जहां पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ मोहन राव भागवत सिद्ध पीठ हथियाराम मठ पर अपने लगभग 24 घंटे कि प्रवासी यात्रा के बाद गुरुवार की सुबह नवग्रह वाटिका स्थापना दर्शन पूजन इत्यादि करते हुए सिद्ध पीठ की धार्मिक पौराणिक व अध्यात्मिक शक्तियों से ऊर्जावान होकर मिर्जापुर के लिए प्रस्थान किए।

गौरतलब हो कि पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत बुधवार को सुबह 11:00 बजे सिद्धपीठ पहुंचे डॉ. भागवत ने सिद्धपीठ की आराध्या वृद्धअंबिका देवी (बुढ़िया माई) दर्शन पूजन किए। उसके बाद महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनंदन यति द्वारा किए जा रहे अपने 27वें चातुर्मास महायज्ञ में द्वादश ज्योतिर्लिंग रुद्राभिषेक पूजन करने के बाद एक गोष्ठी को संबोधित किया।

उन्होंने रात्रि प्रवास सिद्धपीठ के प्राचीन भवन कैलाश भवन में किया। कैलाश भवन वही भवन है जहां सिद्धपीठ के सिद्ध संत ध्यानस्थ रहा करते रहे हैं। उन्होंने कहा की सिद्धपीठ की धरती पर संत महात्माओं की भूमि पर आने से मैं रिचार्ज हो जाता हूं। सामाजिक कार्यों के लिए मुझमें नई ऊर्जा स्फूर्त हो जाती है।

पर्यावरण की उन्नति ही हमारी की उन्नति है- डॉ. मोहनराव भागवत (नवग्रह वाटिका पूजन, शिलान्यास)

गाजीपुर (सिद्धपीठ)। पर्यावरण की उन्नति ही हमारी व हमारे समाज की उन्नति है। हरा भरा व पर्यावरण के अनुकूल क्षेत्र देखकर हमें वहां के लोगों व वातावरण का आभास हो जाता है। पर्यावरण के प्रति सबसे अधिक जिम्मेदारी हमारी बनती है। इसलिए पर्यावरण के उन्नयन का सदैव ख्याल रखना चाहिए। उपरोक्त बातें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सरसंघचालक मोहन राव भागवत ने नवग्रह वाटिका पूजन के समय कहा।

सिद्धपीठ हथियाराम मठ पर अपने प्रवास के दूसरे दिन डॉ. भागवत सिद्धपीठ के विशाल वन क्षेत्र स्थित संत निवास पहुंचे, जहां उन्होंने नवग्रह पूजन और नवग्रह वाटिका की स्थापना किया। इस अवसर पर वैदिक विद्वानों द्वारा नवग्रह के सभी वृक्षों का पूजन कराते हुए वृक्ष रोपण कराया गया। सिद्धपीठ के पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनंदन यति द्वारा संत निवास के विशालकाय परिसर में नवग्रह वाटिका का पूजन व स्थापना के समय बताया गया कि आने वाले समय में नवग्रह वाटिका के साथ ही अन्य आयुर्वेदक गुड़ युक्त पौधों का संरक्षण किया जाएगा।

इस अवसर पर क्षेत्र प्रचारक अनिल जी, काशी प्रांत प्रचारक रमेश जी, मुनीष जी, मुरली पाल, संतोष यादव सहित तमाम संघ के प्रांत व अखिल भारतीय स्तर के पदाधिकारियों ने वृक्षारोपण किया।

-संघ में मैं भी बजाता हूं बैंड - डॉ भागवत

जब बैंड बाजा बजाने वालों से सरसंघचालक श्री भागवत ने कहा "अभी बाजा बजाना छोड़कर मेरे साथ खड़े हो जाओ, फोटो निकलने वाली है"

गाजीपुर (सिद्धपीठ)। सरसंघचालक डॉ मोहन राव भागवत आगमन के दौरान लगातार शहनाई वादकों व बैंड बाजा कलाकारों द्वारा राष्ट्रभक्ति व भक्ति गीतों के माध्यम से स्वागत किया जाता रहा। गुरुवार की सुबह जब वह कैलाश भवन से निकलकर संत निवास की ओर नवग्रह वाटिका पूजन के लिए जा रहे थे। उस समय भी वादको ने अपनी प्रस्तुति की।

सभी वाद्य यंत्र वादकों को खड़ाकर श्री भागवत ने उनके साथ फोटो खिंचाई। उस समय थोड़ा सा विनोद करते हुए उन्होंने वादको से कहा कि अभी बाजा बजाना छोड़ कर मेरे साथ खड़े हो जाओ, फोटो निकलने वाली है। वहीं उन्होंने सभी वाद्य यंत्र वद को का परिचय देते हुए लेते हुए कहाकि संघ में भी बैंड होता है जिसको मैं भी बजाता हूं। इसलिए मेरी इच्छा हुई या आप लोगों के साथ फोटो खींचाता हूं। उन्होंने कलाकारों को सम्मानित किया।

- आयोजक मंडल प्रमुख संतोष यादव सहित स्वयंसेवकों का महामंडलेश्वर ने किया सम्मान

गाजीपुर (सिद्धपीठ)। चतुर्मास महायज्ञ के दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सरसंघचालक डॉ मोहनराव भागवत सिद्धपीठ हथियाराम मठ पर प्रवासी यात्रा के दौरान महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले सिद्धपीठ के शिष्य स्वयंसवकों का महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनंदन यति जी महाराज ने अंगवस्त्रम व प्रसाद देकर सम्मान किया।

इस क्रम में उन्होंने सादात ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि और सिद्धपीठ के प्रमुख सेवक डॉक्टर संतोष यादव, गोविंद यादव, डॉ आनंद सिंह, डॉ सानंद सिंह, डॉक्टर संतोष मिश्रा, आनंद मिश्रा, पुनीत सिंह, अंकित जायसवाल, सुशील सिंह, अंबरीश सिंह, अमित सिंह, श्रीराम जायसवाल, बिट्टू सिंह, आर पी सिंह, बलियां, अशोक सिंह चंदौली, अशोक चौहान, अमित चौहान, डॉ नागेंद्र सहित सभी स्वयंसेवकों को अंगवस्त्रम देकर सम्मानित किया।

- व्यवस्था में सहयोग के लिए जिला प्रशासन का जताए आभार डीएम एसपी को दिए चुनरी प्रसाद

डॉ मोहनराव भागवत के सिद्धपीठ पर यात्रा व प्रवास के मद्देनजर जिला प्रशासन द्वारा लगातार की गई व्यवस्थाओं के तहत डॉ मोहनराव भागवत के प्रस्थान करने के बाद सिद्धपीठ पर पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनंदन यति जी महाराज ने जिलाधिकारी आर्यका अखौरी व पुलिस अधीक्षक यशवीर सिंह सहित सभी प्रशासनिक अधिकारियों के प्रति आभार जताया। उन्होंने इस अवसर पर अधिकारियों को बुढ़िया माई का भोग प्रसाद व अंगवस्त्रम देकर सम्मानित किया।

2 views0 comments

Comentários


bottom of page