top of page
Search
  • alpayuexpress

आज़म खां इन दिनों एक बार फिर चर्चा में!...मुझे भी अतीक अहमद की तरह मारा जा सकता है: आजम खां

आज़म खां इन दिनों एक बार फिर चर्चा में!...मुझे भी अतीक अहमद की तरह मारा जा सकता है: आजम खां


किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


रामपुर। समाजवादी पार्टी के वरिष्ट नेता और पूर्व मंत्री एवं पूर्व सांसद आज़म खां इन दिनों एक बार फिर चर्चा में आ गए हैं। आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें, की हाल ही में समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आज़म खां हाल ही में 24 महीने की जेल काट कर बाहर आए हैं। आपको बता दें, की आज़म खां पर मुर्गी चोरी, भैंस चोरी जैसे आरोप के तहत जेल भेजा गया था। जेल से बाहर आने के बाद आज़म खां को बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ा। निकाय चुनाव का समय हैं। ऐसे में सभी राजनितिक पार्टियों के वरिष्ट नेता चुनाव प्रचार करने में व्यस्त हैं। इसी बीच सपा नेता आज़म खां आज़म खां भी अपने क्षेत्र के प्रत्याशी के चुनाव प्रचार में पहुंचे जहां पर उन्होंने अपने भाषण में कहा की उनकी जान खतरे में है। 

आजम खां ने कहा की उनकी जान को खतरा है

यूपी के रामपुर विधानसभा से विधायक एवं सांसद रह चुके सपा के वरिष्ठ नेता आज़म खां आज़म खां अपनी पार्टी के निकाय चुनाव के प्रत्याशियों के लिए प्रचार और प्रसार कर रहे हैं। हाल ही में सपा नेता आज़म खां निकाय चुनाव के चलते रामपुर में अपने प्रत्याशी के लिए प्रचार कर रहे थे की इसी बीच आज़म खां ने हाल ही में हुए अतीक अहमद और अशरफ की हत्या का मुद्दा उठाते हुए कहा की आने वाले दिनों में मेरी भी जान को खतरा हो सकता है। मुझे भी अतीक अहमद और अशरफ की तरह मार डाला जा सकता है। क्योंकि यूपी में कानून व्यवस्था, निजाम ए हिंद पूरी तरह से बिगड़ गया है। अब यूपी में पुलिस बल तैनात होने के बाद भी किसी को भी जान से मारा जा सकता है।

यूपी की कानून व्यवस्था खराब

 हाल ही में यूपी के खतरनाक माफियाओं में से एक माने जाने वाले अतीक अहमद और उसके बाद अशरफ को भारी सुरक्षा बल के बीच अनजान लोगों ने जान से मार दिया है। जिसके बाद यूपी के सभी राजनितिक विपक्षी दलों ने यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार पर सवाल उठने लगे की यूपी की कानून व्यवस्था अब खत्म हो गई है। पुलिस बल के बीच भी अब कोई सुरक्षित नहीं है। इसी पर सपा नेता आज़म खां ने भी विरोध करते हुए अपनी जान का भी खतरा बताया। यूपी की कानून व्यवस्था खराब होने के चलते उन्हें भी कोई जान से मार सकता है।

2 views0 comments

Comments


bottom of page