Search
  • alpayuexpress

अल्लादीन के चिराग को रगड़ने में गाजीपुर पुलिस क्यों हुई नाकाम!...बीएसएफ जवान के घर पहुंचा कांग्रेस क

गाजीपुर/उत्तर प्रदेश


अल्लादीन के चिराग को रगड़ने में गाजीपुर पुलिस क्यों हुई नाकाम!...बीएसएफ जवान के घर पहुंचा कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल


किरण नाई वरिष्ठ पत्रकार


गाजीपुर। खबर गाजीपुर जिले से है जहां पर जिला कांग्रेस कमेटी के साथ उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्यों का एक प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार को बीएसएफ जवान पवन प्रजापति के घर कुर्था गांव पंहुचा। बीते 26 सितंबर को पवन प्रजापति की पत्नी किरन प्रजापति की निर्मम हत्या पर शोक व्यक्त किया। इस दौरान मृतका के पति ने प्रतिनिधिमंडल बातचीत करते हुए कहा कि घर से कई कीमती सामान भी गायब हैं और आजतक मुख्य हत्यारे और गायब सामान की बरामदगी पुलिस नहीं कर सकी है।

पवन ने बताया कि उनकी पत्नी की हत्या बीते 26 सितंबर को हुई थी और आजतक मौके से गायब सीसीटीवी के डीवीआर, लाइसेंसी पिस्टल, दो एंड्राइड फोन और अन्य नगदी, जेवर और अन्य आरोपी को पुलिस नहीं पकड़ सकी है। जबकि दो सप्ताह से ज्यादा का समय बीत गया है। पवन ने पुलिस की कार्यवाही पर असंतोष व्यक्त करते हुए कहा कि एसपी ने मुझसे सभी आरोपियों को पकड़ने का भरोसा दिलाया था, लेकिन अभी तक मामले का पूरी तरह अनावरण नहीं हो सका है। जिलाध्यक्ष सुनील राम ने बताया कि शोक संतप्त फौजी परिवार से मिलने के दौरान सीओ सिटी और शहर कोतवाल पुलिस कर्मियों के साथ कुर्था गांव पहुंचे थे। शोक संतप्त फौजी परिवार से मिलने के दौरान कांग्रेस नेताओं से पूछताछ भी किया। पुलिस अधिकारियों से मामले की करवाई के बारे में बातचीत किया गया, लेकिन पुलिस संतोषजनक जवाब नहीं दे सकी। उल्टे कांग्रेस नेताओं से ही पूछताछ करने लगी। जिलाध्यक्ष ने कहा कि वर्तमान योगी सरकार लाख सुशासन के दावे कर लें, लेकिन यूपी में आम आदमी के साथ देश के जवान भी सुरक्षित नहीं हैं। महिलाओं के साथ अत्याचार चरम पर है। पवन प्रजापति की पत्नी किरन प्रजापति की हत्या को आज 18 दिन हो गए और मुख्य कातिल और गायब समान आजतक पुलिस ढूंढ नहीं पाई। पुलिस अपनी नाकामयाबी छिपाने के लिए मामले में लीपापोती कर रही है। जबकि पुलिस चाहे तो आसानी से मामले का अनावरण कर फौजी जवान पवन के गायब समान और सीसीटीवी के डीवीआर, जिसमें सबूत भी हैं, उसे बरामद कर सकती है, लेकिन आज तक ऐसा नहीं हो सका है। जिलाध्यक्ष ने कहा कि इस मामले का संज्ञान कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने भी लिया है। अगर जल्द ही इस मामले का अनावरण निष्पक्ष ढंग से नहीं किया गया तो कांग्रेस इस लड़ाई को सड़क से सदन तक लड़ेगी। कांग्रेस जनों ने किरण प्रजापति को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए परिजनों को इस दुख की घड़ी में हर सम्भव मदद का भरोसा दिलाया। प्रतिनिधिमंडल में पीसीसी सदस्य गण डा. जनक कुशवाहा, लाल साहब यादव, अजय कुमार श्रीवास्तव, सुनील साहू, ज्ञान प्रकाश सिंह मुन्ना, महबूब निशा, सुमन चौबे एवं महिला जिला अध्यक्ष ऊषा चतुर्वेदी, संदीप विश्वकर्मा , रतन तिवारी, संजय साहू, आलोक यादव, संजय सिंह, राघवेंद्र चतुर्वेदी आदि शामिल रहे।

1 view0 comments