Search
  • alpayuexpress

अनुपस्थित शिक्षकों का वेतन अग्रिम आदेश तक बाधित!..जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने प्राथमिक विद्यालय एवं

जमानियाँ/गाजीपुर/उत्तर प्रदेश


अनुपस्थित शिक्षकों का वेतन अग्रिम आदेश तक बाधित!..जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने प्राथमिक विद्यालय एवं कम्पोजिट विद्यालय का किया स्थलीय निरीक्षण


आदित्य कुमार डिस्टिक रिपोर्टर


गाजीपुर:- खबर गाजीपुर जिले से है जहां पर महानिदेशक स्कूल शिक्षा, उत्तर प्रदेश लखनऊ के निर्देश के क्रम में जनपद के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्री हेमन्त राव द्वारा स्वयं शिक्षा क्षेत्र जमानियाँ के प्राथमिक विद्यालय सरैया एवं कम्पोजिट विद्यालय हेतिमपुर, क्षेत्र रेवतीपुर के प्राथमिक विद्यालय रमवल, उच्च प्राथमिक विद्यालय रमवल व कन्या कम्पोजिट विद्यालय सुहवल का स्थलीय निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान प्राथमिक विद्यालय सरैया क्षेत्र जमानियाँ पर श्रीमती श्वेता राय स0अ0, श्रीमती मनीषा शर्मा स0अ0 बिना किसी सूचना के अनुपस्थित पायी गईं। उक्त दोनों अध्यापिकाओं का अनुपस्थित तिथि का वेतन अग्रिम आदेश तक बाधित किया गया। निरीक्षण के दौरान विद्यालय में 120 छात्रों के नामांकन के सापेक्ष 28 छात्र उपस्थित पाये गये, जो कि अत्यन्त ही न्यून है, जिसके लिए विद्यालय के प्रधानाध्यापक सहित समस्त स्टाफ को कठोर चेतावनी देते हुए छात्रों की उपस्थिति सुनिश्चित करने हेतु निर्देशित किया गया। कम्पोजिट विद्यालय हेतिमपुर क्षेत्र जमानियाँ के निरीक्षण में सभी स्टाफ उपस्थित पाये गये तथा विद्यालय का परिवेश व छात्रों की उपस्थिति सन्तोषजनक पायी गयी। इसी क्रम में उच्च प्राथमिक विद्यालय रमवल क्षेत्र रेवतीपुर के निरीक्षण के दौरान 144 छात्रों के नामांकन के सापेक्ष केवल 20 छात्र उपस्थित पाये गये, जिसके लिए विद्यालय के समस्त स्टाफ को कड़ी चेतावनी देते हुए खण्ड शिक्षा अधिकारी के माध्यम से स्पष्टीकरण माँगा गया। कन्या कम्पोजिट विद्यालय सुहवल क्षेत्र रेवतीपुर निरीक्षण के दौरान बन्द पाया गया, जिसके लिए विद्यालय के समस्त स्टाफ का निरीक्षण तिथि का वेतन/मानदेय अग्रिम आदेश तक बाधित किया गया।

उपरोक्त निरीक्षण के दौरान उपरोक्त समस्त विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों सहित समस्त विद्यालय स्टाफ को निर्देशित किया गया है कि नियमित रूप से ससमय विद्यालयों में उपस्थित होकर अपने-अपने दायित्वों का निर्वहन शासन के आदेशानुसार क्रियान्वयन करना सुनिश्चित करें, इसमें किसी प्रकार की शिथिलता कदापि न किया जाय।

साथ ही साथ यह भी निर्देशित किया गया कि समस्त प्रधानाध्यापक/सहायक अध्यापक तथा शिक्षामित्र निरीक्षण के दौरान शिक्षण की गुणवत्ता, विद्यालयों की साफ-सफाई, विद्यालयों में अध्ययनरत छात्र/छात्राओं को मध्यान्ह भोजन योजनान्तर्गत प्रेषित धनराशि को डी0बी0टी0 के माध्यम से बच्चों के अभिभावकों के खातों में हस्तान्तरित कराये तथा शत्-प्रतिशत छात्रों का आधार पंजिकरण अनिवार्य रूप से कराया जाये अन्यथा विद्यालयों के निरीक्षण के दौरान उपरोक्त कमियों के पाये जाने पर नियमानुसार कठोर कार्यवाही की जायेगी, जिसके लिए विद्यालय के स्टाफ व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार होगें।

1 view0 comments