top of page
Search
  • alpayuexpress

अधिकारियों के पैरों तले खिसकी जमीन!..विद्यालय में नहीं बना भोजन बच्चे रह गए भूखे, ग्राम प्रधान ने कह

कासिमाबाद/गाजीपुर/उत्तर प्रदेश


अधिकारियों के पैरों तले खिसकी जमीन!..विद्यालय में नहीं बना भोजन बच्चे रह गए भूखे, ग्राम प्रधान ने कहा समय नहीं है हमारे पास


सुभाष कुमार सीनियर क्राइम रिपोर्टर


गाजीपुर:- कासिमाबाद ब्लॉक क्षेत्र के खेताबपुर में आज दिन सोमवार को ग्रामीणों की शिकायत पर पत्रकारों की टीम पहुंची । तो वहां देखा कि हाथी का दांत दिखाने वाला कुछ और होता है , खाने वाला कुछ और है कि कहावत को चरितार्थ करते हुए वहां के ग्राम प्रधान जयराम यादव ने पंचायत भवन को बड़ा ही जबरदस्त बनाया है । और समय से पंचायत सहायक पंचायत भवन को खोलकर अपने कार्यों में गति लाने का प्रयास कर रहा है , मगर सरकार की योजनाओं पर सफाई कर्मियों द्वारा पलिदा लगाने का प्रयास किया जा रहा है । जिसका जीता जागता उदाहरण आज देखने को मिला है । पंचायत भवन पर मौजूद पंचायत सहायक से जब सफाई कर्मियों के बारे में जानकारी लिया गया तो उन्होंने बताया कि वह यहां नहीं आते हैं , फिर बायोमेट्रिक के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि बायोमेट्रिक ग्राम प्रधान के घर रखा गया है , वही सफाई कर्मी आते हैं और अंगूठा लगाते हुए ,अपनी ड्यूटी को करते हैं । जब ग्राम प्रधान से इस विषय में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि बायोमेट्रिक पंचायत भवन पर रखा गया है , इस तरीके का कारनामा ग्राम प्रधान सहित पंचायत सहायक एक दूसरे को आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं । जब जिम्मेदार लोग ही इस तरीके की कार्य कर रहे हो तो गांव का विकास कितनी तेजी से होगा । खैर गांव की विकास कर रहे , विकास पुरुष ग्राम प्रधान जयराम यादव यहां तक की बच्चों के यम डी यम को भी समय से बनवाने में पीछे भागते नजर आ रहा है । जिसका जीता जागता उदाहरण आज पूर्व माध्यमिक विद्यालय खेताबपुर में देखने को मिला , जब विद्यालय पर साफ-सफाई की व्यवस्था नहीं होने पर पत्रकारों ने अध्यापकों से पूछताछ किया तो उन्होंने बताया कि सफाई कर्मी कभी कबार आते जाते हैं और सही ढंग से साफ सफाई की व्यवस्था नहीं हो पाती है । और फिर प्रधानाध्यापक शिवानंद सिंह के बारे में जब पूछा गया तो वह मौके पर गायब रहे और कुछ देर बाद बी आर सी पर मिलने के लिए बुलाया । विद्यालय की साफ-सफाई की जानकारी लेते हुए , बच्चों से भोजन मिलने की जानकारी लिया गया तो बच्चों ने बताया कि आज खाना बना ही नहीं है । फिर वही जब बच्चों से पूछा गया कि आप सभी लोगों को दूध या फल मिलता है तो कई बच्चों द्वारा जवाब दिया गया कि आज तक हम सभी लोगों को ना फल मिला है और ना ही दूध मिला है । जबकि सरकार द्वारा योजनाओं के लाभ दिलाने के लिए लगातार अधिकारियों ने बैठक के माध्यम से क्षेत्र में सही ढंग से कार्य करने का निर्देश दिया जाता है , लेकिन यहां के ग्राम प्रधान द्वारा सभी आदेशों को ताक पर रखते हुए , अपने आदेश का पालन कराया जाता है । जिसका जीता जागता उदाहरण आज देखने को मिला है । उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शिक्षा विभाग पर लगातार सुविधा मुहैया कराते हुए , गरिब बच्चों को खाने-पीने से लेकर ड्रेस , फिश फार्म तथा उनके हर सुविधा के लिए योजना चला रहे हैं , उसकी योजनाओं पर पलिदा लगाते हुए , ग्राम प्रधान पीछे नहीं हट रहे हैं । इस मामले की जानकारी जब खंड शिक्षा अधिकारी सहित खंड विकास अधिकारी से अवगत कराया गया तो इन दोनों अधिकारियों के पैरों तले जमीन खिसक गई और अपने बयान में साफ तौर से कहा है कि इस तरीके का मामला अगर प्रकाश में आया है , तो इसकी जांच कराई जाएगी और इन लोगों के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी । अब देखना है कि इस तरीके की घोर लापरवाही कर रहे , प्रधानाध्यापक सहित ग्राम प्रधान एवं सचिव व सफाई कर्मी के ऊपर क्या कार्रवाई हो पाती है या अपने पहुंच के दम पर ऐसे ही कारनामा करने के लिए प्रयास करते रहते हैं । जिसकी क्षेत्र में चर्चा का विषय बना है ।

1 view0 comments

Kommentare


bottom of page